close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जलवायु परिवर्तन के कारण कहीं बाढ़ तो कहीं सुखाड़ की स्थिति: नीतीश कुमार

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने पटना में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि आज दुनिया के साथ बिहार में भी भूजल स्तर नीचे जा रहा है. अचानक अतिवृष्टि से बिहार में जैसी स्थिति हुई वह सबके सामने है. सीएम ने कहा कि जुलाई में फ्लैश फ्लड आया था. 2017 में भी आया था. इससे बहुत नुकसान हुआ था. उन्होंने कहा कि हमारा जन्म जहां हुआ, वह गंगा नदी के किनारे है. हमारे घर के पास कभी पानी नहीं गया, लेकिन इस बार आ गया. उन्होंने कहा कि इस साल गंगा नदी (Ganga) का जलस्तर ऊंचा हो गया है. साथ ही उन्होंने कहा कि एक तरफ बाढ़ तो दूसरे तरफ सुखाड़ की स्थिति है. ऐसा जलवायु परिवर्तन के कारण हो रहा है. 

जलवायु परिवर्तन के कारण कहीं बाढ़ तो कहीं सुखाड़ की स्थिति: नीतीश कुमार
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने महात्मा गांधी की प्रतिमा पर श्रद्धांजलि अर्पित किया. (तस्वीर- Twitter@NitishKumar)

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने पटना में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि आज दुनिया के साथ बिहार में भी भूजल स्तर नीचे जा रहा है. अचानक अतिवृष्टि से बिहार में जैसी स्थिति हुई वह सबके सामने है. सीएम ने कहा कि जुलाई में फ्लैश फ्लड आया था. 2017 में भी आया था. इससे बहुत नुकसान हुआ था. उन्होंने कहा कि हमारा जन्म जहां हुआ, वह गंगा नदी के किनारे है. हमारे घर के पास कभी पानी नहीं गया, लेकिन इस बार आ गया. उन्होंने कहा कि इस साल गंगा नदी (Ganga) का जलस्तर ऊंचा हो गया है. साथ ही उन्होंने कहा कि एक तरफ बाढ़ तो दूसरे तरफ सुखाड़ की स्थिति है. ऐसा जलवायु परिवर्तन के कारण हो रहा है. 

उन्होंने कहा कि 3-4 दिनों में अतिवृष्टि हुई, इसके बारे में कोई सोच नहीं सकता. पटना के कुछ मोहल्लों में पानी चला गया. अभी भी है. राहत का काम किया जा रहा है. सीएम नीतीश ने कहा कि 13 जुलाई को जलवायु परिवर्तन पर सभी दलों के प्रतिनिधि बैठे थे. उसी समय जल-जीवन-हरियाली (Jal-Jeevan-Hariyali) अभियान पर सर्वसम्मति बनी थी. हम एक-एक काम करने जा रहे हैं. बारिश की वजह से अभी सब जगह काम शुरू नहीं कर पा रहे हैं. पूरा काम 26 अक्टूबर से शुरू होगा.

सीएम नीतीश का पूरा भाषण जलवायु पर केंद्रित रहा. उन्होंने कहा कि कुओं को चिन्हित किया जा चुका है. गांव से लेकर शहर तक में फिर से चालू किया जाएगा. छोटी नदियों पर चेकडैम बनाया जाएगा. साथ ही उन्होंने कहा कि गंगा नदी के पानी को गया, नवादा और राजगीर ले जाया जाएगा. रेन वाटर हार्वेस्टिंग का काम सरकारी इमारतों में किया जा रहा है.

इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि सघन वृक्षारोपण किया जा रहा है. अब तक 19 करोड़ पौधे लगाए गए हैं. इस साल डेढ़ करोड़ पौधे लगाए गए. फसल चक्र का भी अध्ययन किया जा रहा है. सोलर ऊर्जा की दिशा में भी हम काम कर रहे हैं. सरकारी भवनों पर सोलर प्लेट लगाने का काम शुरू किया जा चुका है. 26 अक्टूबर से हर पंचायत में जल-जीवन-हरियाली कार्यक्रम शुरू करेंगे.