झारखंड : सरकारी स्कूल के सिलेबस में शामिल होगी अटल जी की जीवनी, कांग्रेस ने उठाए सवाल

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने सड़क मार्ग से ग्यारह किलोमीटर पैदल चलकर राजधानी रांची के नामकुम इलाके में स्वर्ण रेखा नदी में प्रवाहित किया. 

झारखंड : सरकारी स्कूल के सिलेबस में शामिल होगी अटल जी की जीवनी, कांग्रेस ने उठाए सवाल
रघुवर दास ने किया अटल जी की जीवनी सिलेबस में शामिल करने का ऐलान. (तस्वीर- Twitter)

रांची : अब झारखंड के सरकारी स्कूलों में बच्चों को देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की जीवनी पढ़ाई जाएगी. राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने इस बात की जानकारी दी. कांग्रेस ने इस मामले पर कोई आपत्ति तो नहीं जताई है, लेकिन कुछ सवाल जरूर उठाया है.

झारखंड कांग्रेस के अध्यक्ष डॉ अजय ने कहा कि किसी भी देश के बड़े नेता को सिलेबस में जोड़ना कोई गलत नहीं है. उन्होंने कहा कि अटल जी की जीवना को सिलेबस में जोड़ने को लेकर कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन जयपाल सिंह मुंडा, होमी जहांगीर भाभा, विक्रम साराभाई सहित कई लोग महान थे इन्हें क्यों नहीं जोड़ा गया? इस दौरान उन्होंने आरएसएस पर भी निशाना साधा.

इससे पहले पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के अस्थि कलश को झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने सड़क मार्ग से ग्यारह किलोमीटर पैदल चलकर राजधानी रांची के नामकुम इलाके में स्वर्ण रेखा नदी में प्रवाहित किया. 

राजधानी रांची में हरमू स्थित प्रदेश बीजेपी कार्यालय से आज दोपहर बाद पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का अस्थि कलश लेकर मुख्यमंत्री रघुवर दास पैदल निकले और उनके साथ आदिवासी मामलों के केन्द्रीय मंत्री सुदर्शन भगत, झारखंड के शहरी विकास मंत्री सीपी सिंह एवं हजारों आम लोग जुलूस में शामिल थे.

अस्थि कलश लेकर मुख्यमंत्री एवं हजारों अन्य लोग देर शाम राजधानी के विभिन्न इलाकों से होते हुए नामकुम में स्वर्ण रेखा नदी के तट पर पहुंचे जहां उन्होंने अटल बिहारी अमर रहे के नारों के बीच अस्थि कलश को स्वर्ण रेखा नदी में प्रवाहित किया. भाजपा के प्रदेश महामंत्री दीपक प्रकाश ने बताया कि वाजपेयी के अस्थि कलश राज्य की शेष चार प्रमुख नदियों में कल प्रवाहित किये जायेंगे.