झारखंड : 85 हजार करोड़ का बजट पेश, रघुवर दास ने किसानों के लिए खोला पिटारा

सुभाष चन्द्र बोस और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को याद करते हुए उन्होंने अपने बजट भाषण की शुरुआत की.

झारखंड : 85 हजार करोड़ का बजट पेश, रघुवर दास ने किसानों के लिए खोला पिटारा
रघुवर दास ने लगातार पांचवी बार पेश किया बजट. (तस्वीर- @dasraghubar)
Play

चंदन कुमार, रांची : मुख्यमंत्री रघुवर दास ने वित्तीय वर्ष (2019-20) के लिए 85429 करोड़ रुपए का बजट पेश किया. इस बजट में उन्होंने किसानों के लिए कई घोषणाएं की. सुभाष चन्द्र बोस और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को याद करते हुए उन्होंने अपने बजट भाषण की शुरुआत की.

मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन के दौरान कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी ने झारखण्ड राज्य की खुशहाली का जो सपने देखा था, उन्हें साकार करने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मार्गदर्शन में झारखंड की लगातार काम कर रही है.

इस बजट में राज्य के 28 लाख किसानों के लिए मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना की शुरुआत की गई. इसके तहत खेती के लिए राज्य के किसान को पांच हजार रुपये प्रति एकड़ प्रति वर्ष दिया जाएगा. साथ ही e-NAM योजना के तहत किसानों को राज्य सरकार स्मार्ट फोन देगी. इसके अलावा किसानों को सरकार मिनिमम सपोर्ट प्राइस (एमएसपी) के अतिरिक्त धान की खरीद पर 19-20 में भी 150 रुपए प्रति क्विंटल बोनस देगी.

रघुवर सरकार ने सुजलाम सुफलाम योजना के तहत सूखाग्रस्त जिले में नाले, डैम, तालाब का निर्माण कराने की घोषणा करते हुए कहा कि किसानों को उन्नत खेती सीखने के लिए सरकार इजराइल भेज रही है.

बजट भाषण के दौरान सीएम ने कहा कि 1200 किसानों को मधुमक्खी पालन के साथ जोड़ने के लिए 10 करोड़ की राशि से मीठी क्रांति के तहत दी गई है. वित्तीय वर्ष 19-20 में 100 करोड़ की लागत से 12000 किसानों को लाभ देने का लक्ष्य रखा गया है. साथ ही उन्होंने कहा कि 11 जिलों में 5000 मीट्रिक टन क्षमता वाले कोल्ड स्टोरेज के निर्माण का लक्ष्य रखा गया है.

इसके अलावा 19-20 में भी टानाभगत को प्रति परिवार चार गायों के लिए शत प्रतिशत अनुदान पर देने का लक्ष्य रखा गया है. पलामू, देवघर, साहेबगंज, जमशेदपुर, गिरिडीह में 50 हजार लीटर की क्षमता वाले डेयरी प्लांट के निर्माण की योजना भी इस बजट में की गई है. मछली पालक को विभागीय मत्स्य कृषि आहार के लिए 50 प्रतिशत अनुदान दिया जाएगा.