close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पटना: को-ऑपरेटिव फेडरेशन के वार्षिक सम्मेलन में पहुंचे राणा रणधीर, कहा- सहकारिता का मॉडल मजबूत

सम्मेलन का उद्घाटन करने सहकारिता मंत्री राणा रणधीर और स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय पहुंचे. इस मौके पर फेडरेशन के अध्यक्ष विनय कुमार शाही समेत अन्य पदाधिकारी मौजूद रहे.  

पटना: को-ऑपरेटिव फेडरेशन के वार्षिक सम्मेलन में पहुंचे राणा रणधीर, कहा- सहकारिता का मॉडल मजबूत
सम्मेलन का उद्घाटन करने सहकारिता मंत्री राणा रणधीर और स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय पहुंचे.

पटना: बिहार को-आपरेटिव फेडरेशन का वार्षिक सम्मेलन फेडरेशन कार्यालय बुद्दा मार्ग में आयोजित किया गया. सम्मेलन का उद्घाटन करने सहकारिता मंत्री राणा रणधीर और स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय पहुंचे. इस मौके पर फेडरेशन के अध्यक्ष विनय कुमार शाही समेत अन्य पदाधिकारी मौजूद रहे.  

सम्मेलन में आए सहकारिता मंत्री और स्वास्थ्य मंत्री को फेडरेशन के अध्यक्ष ने सम्मानित किया. अतिथियों को शॉल देकर सम्मानित किया गया. यह अलग बात है कि इस कार्यक्रम में समाज कल्याण मंत्री रामसेवक प्रसाद नहीं पहुंचे. राम सेवक प्रसाद जेडीयू कोटे के मंत्री हैं.

 

इस दौरान सहकारिता मंत्री राणा रणधीर ने कहा है कि यह कार्यक्रम हर साल होता है. सम्मेलन के दौरान पूरे साल की लेखा-जोखा की समीक्षा होती है. इस बार की बैठक में स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय पहुंचे है.उन्होने कहा है कि सम्मेलन के दौरान आने वाले समय में फेडरेशन की क्या कार्य योजना है, उसपर भी बातें होगी. राणा रणधीर ने बताया कि बिहार में तीस हजार से अधिक को-ऑपरेटिव फेडरेशन है.फेडरेशन के सहारे बिहार सरकार किसानो और पिछड़े तपके को मजबूत करने में जूटी है.

साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार इसे मजबूत करना चाहती है. सहकारिता का मॉडल काफी मजबूत है. लोकतांत्रिक व्यवस्था की तरह सहकारिता है. उन्होंने कहा कि पंडित दीन दयाल की सोच और परिकल्पना को सहकारिता ही पूरा कर रहा है. पैक्स को किसान कल्याण केन्द्र के रुप में विकसित किया जा रहा है.किसानो को पैक्सो से खाद और बींज उपलब्ध कराए जा रहें हैं.

सरकार ने फेडरेशन के जरीए किसानो को सशक्त बनाने की योजना है.पैक्सों के माद्यम से किसानो के बींच खाद और बीज पहुंचाकर और सशक्त बनाने की योजना पर राज्य सरकार काम कर रहीं है. बिहार सरकार किसानों के जरीए ही राज्य का विकासदर को उपर ले जाने की प्रयास कर रही हैं. इन तमाम कार्यो में को-ऑपरेटिव फेडरेशन काफी काम आ रहा है.