Loan के दबाव में शिक्षक ने किया Suicide,वीडियो जारी कर खोली Bank की पोल

कोचिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया ने मांग रखी है कि बैंक उनके छोटे-छोटे बच्चों की देखभाल और पीजी की पढ़ाई तक के खर्च के लिए 50 लाख से 1 करोड़ की राशि मुआवजा दे, इसके लिए उन्होंने 15 फरवरी तक का समय बैंक को दिया है.

Loan के दबाव में शिक्षक ने किया Suicide,वीडियो जारी कर खोली Bank की पोल
लोन के दबाव में शिक्षक ने की आत्महत्या. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

अजय कुमार/भागलपुर: भागलपुर में कोरोना महामारी और लॉकडाउन में एक ओर जहां लोग दाने-दाने को मोहताज थे. वहीं, निजी क्षेत्र के बैंक ऋण वसूली में साम-दाम-दंड-भेद अपना रहे हैं. नतीजन बैंक की कारगुजारी से अजीज एक निजी शिक्षक ने आत्महत्या (Suicide) कर ली. दरअसल, भागलपुर तातारपुर थाना क्षेत्र विवेकानंद कॉलोनी में रहने वेले निजी शिक्षक चन्द्र भूषण सिंह उर्फ सीबी सिंह ने ऋण (Loan) ना दे पाने और बैंक कर्मियों के दवाब में आत्महत्या कर ली. आत्महत्या से पहले उन्होंने वीडियो जारी कर बैंक की पोल खोल कर रख दी.

शिक्षक सी.बी सिंह की बहन ने बैंक पर गम्भीर आरोप लगाते हुए कहा कि उनके भाई ने किसी रिश्तेदार से एक लाख कर्ज लिए थे, जिसे गलती से उन्होंने लोन वाले खाता पर ही मंगवा लिया, जिसके बाद बैंक ने उस रुपये को बिना सूचना दिए काट लिया और फिर घर पहुंचकर गालियां दी, जिससे आहत होकर उन्होंने ऐसा कदम उठाया.

वहीं, कोचिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (Coaching Federation of India) भी शिक्षक को न्याय दिलाने के लिये इस मामले में कूद पड़ी है. इसी को लेकर कोचिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के सचिव व सत्यम वेव संस्थापक राजेश कुमार ने प्रेसवार्ता आयोजित की. कोचिंग फेडरेशन के सचिव कृष्णा चैतन्य ने कहा कि बैंक द्वारा उन्हें (मृतक) प्रताड़ित किया जा रहा था.

बैंक ने लिखित दिया था कि लोन की रकम 2021 तक नहीं मांगी जाएगी. इसके बावजूद बैंक के लोग उनके घर पहुंचकर वहां मौजूद छात्रों के सामने उन्हें गालियां दी और रुपये लौटाने के लिए दबाव बनाया. कोचिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया ने मांग रखी है कि बैंक उनके छोटे-छोटे बच्चों की देखभाल और पीजी की पढ़ाई तक के खर्च के लिए 50 लाख से 1 करोड़ की राशि मुआवजा दे, इसके लिए उन्होंने 15 फरवरी तक का समय बैंक को दिया है.

इस मामले में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (SSP) नितिशा गुड़िया ने कहा की 'मृतक के परिवार वालों के तरफ से कोई आवेदन नहीं मिला है, आवेदन मिलते ही विधि सम्मत कार्रवाई की जाएगी'