कांग्रेस नेता ने खोली प्रदेश आलाकमान की पोल, सार्वजनिक कर दिया पैसा मांगने वाला चैट

चैतन्य ने बताया कि उनसे सीधे तौर पर पैसा मांगा गया लेकिन प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा के पीए रितेश को उन्होंने 30 हजार रूपए भेजे. इसके साथ उनके फ्लाइट के टिकट, हॉस्पिटल का खर्च, होटल का खर्च भी उठाते हैं.

कांग्रेस नेता ने खोली प्रदेश आलाकमान की पोल, सार्वजनिक कर दिया पैसा मांगने वाला चैट
कांग्रेस नेता ने खोली प्रदेश आलाकमान की पोल, सार्वजनिक कर दिया पैसा मांगने वाला चैट.

पटना: कांग्रेस नेता चैतन्य पतिल को कांग्रेस का नेशनल कोऑर्डिनेटर बनाया गया है. इससे पहले वे गया टाउन के संभावित प्रत्याशी थे, लेकिन इनका टिकट काट कर मोहन श्रीवास्तव को दिया गया था. इनके पिता 2 बार के विधायक रहे हैं और पुराने कांग्रेसी भी थे. अब कांग्रेस में अंतर्विरोध कि आवाज लगातर तेजी से बढ़ रही है.

अब चैतन्य पातिल ने आरोप लगाया है कि लगातर चुनाव प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल (Shakti Singh Gohil) ने आश्वासन दिया कि उन्हें टिकट मिलेगा, लेकिन आखिर में क्या हुआ, उन्हे टिकट नहीं मिली. पार्टी में पैराशूट कैंडिडेट को क्यों तरजीह दी गई?

कांग्रेस नेता चैतन्य ने कांग्रेस पार्टी के वो कागजात भी मीडिया से शेयर किए जिसमें उन्होंने बताया कि कई ऐसे उमीदवार को टिकट दिया जिनका लिस्ट में या नाम नहीं या आखिरी नंबर पर नाम है. प्रियंका गांधी राहुल गांधी के कहने के बावजूद क्यों अपराधिक छवि के कैंडिडेट को टिकट मिला.

चैतन्य ने बताया कि उनसे सीधे तौर पर पैसा मांगा गया लेकिन प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा के पीए रितेश को उन्होंने 30 हजार रूपए भेजे. इसके साथ उनके फ्लाइट के टिकट, हॉस्पिटल का खर्च, होटल का खर्च भी उठाते हैं.

उन्होंने बताया कि अवधेश सिंह के बेटे को इसलिए टिकट मिला क्योंकि वो एमएलए के बेटे थे. ली मेरिडियन होटल में 5 रूम बुक किया गया जिसमें झारखंड के बड़े नेता रूके रहे और जानकारों के मुताबिक अय्याशी होती थी. वीरेंद्र सिंह राठौर और शक्ति सिंह गोहिल एक खास जाति विशेष की मदद करते थे.

यही नहीं, शक्ति सिंह गोहिल ने चैतन्य से माफी मांगी कि उन्हें टिकट नहीं मिल सका. उन्होंने चैट्स के माध्यम से दिखाया भी. चैतन्य ने कहा कि कांग्रेस की बुरी हार के लिए कांग्रेस जिम्मेदार है.