close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

झारखंड: हेमंत सोरेन के आवास पर हुई कांग्रेस-JMM की बैठक, RPN सिंह भी रहे मौजूद

तमाम सवालों पर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव ने चुप्पी साध ली. बस पूछने पर आखिर में कह गए कि ऑल इज वेल.

झारखंड: हेमंत सोरेन के आवास पर हुई कांग्रेस-JMM की बैठक, RPN सिंह भी रहे मौजूद
हेमंत सोरेन के घर हुई महागठबंधन की बैठक. (फाइल फोटो)

रांची: झारखंड में महागठबंधन (Grand Alliance) को लेकर कांग्रेसी नेताओं ने झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन (Hemant Soren) से उनके आवास पर मुलाकात की. तकरीबन एक घंटा से ज्यादा चली मुलाकात के बाद सभी बाहर तो साथ निकले, लेकिन उनके हाव-भाव से कई सवाल खड़े हो रहे थे. क्या महागठबंधन में नहीं है सबकुछ ठीक? आखिर क्यों बोलने से परहेज करते दिखे कांग्रेसी नेता? अगर विनिंग स्वरूप है तो फिर कहां अटका है पेंच? जब सबकुछ ठीक तो फिर उदासी क्यों?

'बेखुदी बेसबब नहीं साहब,कुछ तो है जिसकी पर्दा दारी है', मिर्जा गालिब की यह पंक्ति आज नेताओं की खामोशी पर बिल्कुल सटीक बैठती है. जेएमएम कार्यकारी अध्यक्ष से कांग्रेसी नेताओं ने मुलाकात की. तकरीबन एक घंटा से ज्यादा चली बैठक के बाद झारखंड कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी आरपीएन सिंह पहले तो कुछ कहने से बचते नजर आए, लेकिन बाद में जो उन्होंने कहा उसमे कंफ्यूजन साफ दिखता है. JMM के सवाल पर प्रदेश प्रभारी ने सीधे तौर पर चुप्पी साध ली. हालांकि आरपीएन सिंह ने एकबार फिर रघुवर सरकार को सत्ता से बेदखल करने की बात कही.

उन्होंने कहा कि हमारे गठबंधन मित्र हैं. अगर उनसे मुलाकात नहीं करेंगे तो किससे मुलाकात करेंगे. हालांकि स्ट्रेटजी टीवी पर नहीं बताई जाती. विनिंग स्वरूप तय है. जल्द ही मीडिया को बता दिया जाएगा. चिंता करने की ज़रूरत नहीं है. उन्होंने कहा कि जेएमएम और कांग्रेस का पुराना संबंध रहा है. आगामी चुनाव में कैसे राज्य की जनता को रघुवर सरकार से मुक्त कराया जाए यह हमारी प्राथमिकता है.

जब प्रदेश प्रभारी गोलमटोल जवाब देने लगे तो भला कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष क्या बोल पाते. तमाम सवालों पर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव ने चुप्पी साध ली. बस पूछने पर आखिर में कह गए कि ऑल इज वेल.

बैठक के बारे जब हमने जेएमएम के कार्यकारी अध्यक्ष से पूछना चाहा तो उन्होंने कुछ भी साफ कहने से इनकार कर दिया. लेकिन पार्टी के महासचिव इसे इनफॉरमल मीटिंग बताकर बचते नजर आए. वहीं, क्या हेमंत महागठबंधन का चेहरा हैं? इस सवाल पर सुप्रियो भट्टाचार्य ने साफ कहा कि जेएमएम के नेता हेमंत सोरेन ही हैं और भावी मुख्यमंत्री भी. इसमें कोई दो राय नहीं है. साथ ही उन्होंने कहा कि जेएमएम का जनता के साथ गठबंधन हुआ है और जो जनता की आवाज के साथ है हम उनके साथ हैं. उन्होंने यह भी कहा कि बीजेपी विरोधी ताकतों को एकजुट किया जा रहा है.

बहरहाल झारखंड में विधानसभा चुनाव की तैयारी चल रही है, लेकिन क्या विपक्षी यह चुनाव महागठबंधन के बैनर तले लड़ेंगे या फिर एकला चलो की राह होगी. यह फिलहाल स्पष्ट नहीं है.