बिहारः महागठबंधन में सीट शेयरिंग से पहले कांग्रेस कार्यालय के बाहर प्रदर्शन, औरंगाबाद सीट पर फंसा पेंच

कांग्रेस के कार्यकर्ता प्रदेश कार्यालय के सामने प्रदर्शन कर रहे हैं. औरंगाबाद सीट को लेकर कार्याकर्ताओं में नाराजगी है.

बिहारः महागठबंधन में सीट शेयरिंग से पहले कांग्रेस कार्यालय के बाहर प्रदर्शन, औरंगाबाद सीट पर फंसा पेंच
निखिल कुमार के समर्थक कांग्रेस कार्यालय के बाहर प्रदर्शन कर रहे हैं.

पटनाः महागठबंधन में सीट शेयरिंग को लेकर आज ऐलान हो सकता है. लेकिन इससे पहले ही पटना स्थित कांग्रेस कार्यालय सदाकत आश्रम के बाहर पार्टी के कार्यकर्ता और नेता हंगामा कर रहे हैं. कार्यकर्ताओं ने बिहार कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल और अखिलेश सिंह पर कांग्रेस को कमजोर करने आरोप लगाया है. वहीं, औरंगाबाद सीट पर निखिल कुमार का टिकट कटने को लेकर जोरदार प्रदर्शन कर रहे हैं.

महागठबंधन में सीट शेयरिंग का ऐलान होने जा रहा है. लेकिन ऐलान से पहले कांग्रेस कार्यकर्ता औरंगाबद सीट को लेकर फिर से विचार करने का दवाब बना रही है. कार्यकर्ता औरंगाबद लोकसभा सीट से निखिल कुमार का टिकट कटने की चर्चा को लेकर नाराज हैं.

निखिल कुमार के समर्थक सदाकत आश्रम में धरना प्रदर्शन कर रहे हैं. समर्थकों का कहना है कि औरंगाबाद सीट कांग्रेस की परंपरागत सीट है. उनका कहना है कि निखिल कुमार का राहुल गांधी और सोनिया गांधी से व्यक्तिगत अच्छे संबंध हैं लेकिन प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा और प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल इसे तोड़ना चाहते हैं.

समर्थकों का कहना है कि प्रदेश अध्यक्ष और प्रभारी सभी मिलकर बिहार में कांग्रेस को कमजोर करने का काम कर रहे हैं. उनका कहना है कि निखिल कुमार को औरंगाबाद सीट दिया जाए और हमलोग उन्हें जीताने के लिए जान लगा देंगे. उन्होंने कांग्रेस के प्रदेश अधिकारियों को चेतावनी दी है.

बता दें कि औरंगबाद सीट महागठबंधन के सहयोगी दल जीतनराम मांझी की पार्टी हम को दिए जाने की चर्चा है. ऐसे में कांग्रेस कार्यकर्ता नाराज हो गए हैं. इस पर पुनः विचार करने का दवाब बना रहे हैं. समर्थकों का आरोप है कि कांग्रेस के प्रभारी और प्रदेश अध्यक्ष औरंगाबाद सीट को बेचा गया है. लेकिन ऐसा हम सभी होने नहीं देंगे. किसी भी हाल में औरंगाबाद सीट पर निखिल कुमार ही उम्मीदवार होंगे.

बहरहाल सीट शेयरिंग के ऐलान से पहले यह प्रदर्शन फिर से महागठबंधन को मुसिबत में डाल दिया है. इस पर अब कांग्रेस क्या स्टैंड लेती है. साथ ही महागठबंधन में सीट शेयरिंग के ऐलान पर फिर से काले बादल छाने लगे हैं.