Jharkhand में Corona Vaccination की हुई शुरुआत, CM Hemant बोले-वरदान साबित होगा टीका

Jharkhand Corona Vaccination:  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) द्वारा आज देश में टीकाकरण की आनलाइन शुरूआत के बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने राजधानी रांची (Ranchi) के सदर अस्पताल में इसकी शुरूआत की. इसके साथ ही प्रदेश के सभी 24 जिलों में​ चिन्हित 48 टीकाकरण केन्द्रों पर इस कार्यक्रम की शुरूआत हुई. 

Jharkhand में Corona Vaccination की हुई शुरुआत, CM Hemant बोले-वरदान साबित होगा टीका
मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने राजधानी रांची में टीकाकरण अभियान की शुरुआत की

रांची:  देश भर में कोविड—19 (Covid-19) टीकाकरण की शुरूआत के साथ ही प्रदेश में भी शनिवार को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) ने इसकी शुरूआत की.  इस दौरान रांची के सदर अस्पताल की सफाईकर्मी मरियम गुड़िया को सबसे पहले टीका लगाया गया. टीकाकरण के अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि यह टीका वैश्विक महामारी में देश के लिए वरदान साबित होगा.

 

कोरोना वायरस (Coronavirus) के खात्मे को लेकर सरकार पूरी तरह से गंभीर है. इसी के मद्देनजर आज पूरे देश में टीकाकरण अभियान की शुरुआत की गई. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) द्वारा आज देश में टीकाकरण की आनलाइन शुरूआत के बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने राजधानी रांची (Ranchi) के सदर अस्पताल में इसकी शुरूआत की. इसके साथ ही प्रदेश के सभी 24 जिलों में​ चिन्हित 48 टीकाकरण केन्द्रों पर इस कार्यक्रम की शुरूआत हुई. मुख्यमंत्री इस अवसर पर कहा, 'मुझे उम्मीद है कि यह टीका वैश्विक महामारी में देश के लिए वरदान साबित होगा. केन्द्र सरकार के दिशानिर्देशों के अनुसार ही राज्य में टीकाकरण की पूरी कार्ययोजना बनायी जायेगी'.

इससे पूर्व स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव नितीन मदन कुलकर्णी ने बताया कि केंद्र सरकार (Central Government) द्वारा तय मानक के अनुसार शुरूआत में यह टीका सभी स्वास्थ्य कर्मियों को दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि राज्य के सभी 48 टीकाकरण केन्द्रों पर यथा उचित तैयारियां पूर्ण कर ली गई हैं और प्रत्येक टीकाकरण केन्द्र पर प्रतिदिन 100 स्वास्थ्यकर्मियों को टीका लगाया जायेगा. इसके 28 दिन बाद दूसरा टीका लगाया जायेगा, पहले राज्य में इस उद्देश्य से 129 टीकाकरण केन्द्र बनाये गए थे लेकिन केन्द्र सरकार ने यहां उपयुक्त आधारभूत संरचना को देखते हुए फिलहाल सिर्फ 48 केन्द्रों की ही अनुमति दी है.

(इनपुट भाषा)