झारखंड: बोकारो कोर्ट ने अपहरण और दुष्कर्म के मामले में आरोपी को सुनाई 20 साल की सजा

बोकारो पोक्सो कोर्ट के न्यायाधीश रंजीत कुमार की अदालत मे ये फैसला सुनाया गया. 

झारखंड: बोकारो कोर्ट ने अपहरण और दुष्कर्म के मामले में आरोपी को सुनाई 20 साल की सजा
सहयोग करने के आरोप मे ड्राइवर को भी मिली 3 साल की सजा दी गई है.

बोकारो: झारखंड के बोकारो कोर्ट ने पोक्सो एक्ट मामले में नाबालिग छात्रा के अपहरण और दुष्कर्म मामले में आरोपी युवक राजकरमाली को 20 साल की सजा और 20 हजार रूपये जुर्माना की सजा सुनाई. साथ ही उसका सहयोग करने के आरोप मे ड्राईवर रामचन्द्र सोनार को भी तीन साल की सजा सुनाई गई. बोकारो पोक्सो कोर्ट के न्यायाधीश रंजीत कुमार की अदालत मे ये फैसला सुनाया गया. 

यह घटना 2018 बोकारो थर्मल थाना क्षेत्र का है जहां 24 जुलाई 2018 को जब नाबालिग छात्रा एक निजी स्कूल मे पढने गई थी तो आरोपी राज करमाली अपने ड्राईवर रामचन्द्र सोनार के साथ स्कूल में कार से पहुंचा और स्कूल के गार्ड को उक्त छात्रा की दादी के बिमार होने का हवाला देकर बुलाने के लिए कहा.

 

गार्ड ने क्लासरूम मे छात्रा को कहा कि उसका कोई परिचित बुला रहा है. जब छात्रा स्कूल से बाहर आई तो आरोपी ने बताया कि उसकी दादी बिमार है और घरवाले उसे लेने के लिए भेजा है. इसके बाद लड़की उसके कार मे बैठ गई जहां उसे घर न ले जाकर रांची ले जाया गया और रांची में ही अपने दोस्त के घर मे तीन दिन रखकर उसके साथ दूष्कर्म किया.  

पीड़िता के पिता द्वारा अपहरण और दुष्कर्म का केस साल 2018 मे बोकारो थर्मल थाना मे दर्ज कराया गया था. उसी पर सुनाई के बाद आज आरोपी राजकरमाली को 20 साल कि सजा सुनाई गई और 20 हजार रूपये का जुर्माना लगाया गया. साथ ही उसका सहयोग करने के आरोप मे ड्राइवर को भी मिली 3 साल की सजा दी गई है.