झारखंड: सीपीआई ने की रामगढ़ से उम्मीदवार की घोषणा, 17 सीटों पर लड़ेगी चुनाव

झारखंड विधानसभा चुनाव में महागठबंधन से अलग होकर के चुनाव लड़ रही सीपीआई पार्टी ने रामगढ़ में उम्मीदवार उतारने की घोषणा की. सीपीआई पार्टी के हजारीबाग के पूर्व सांसद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में भुवनेश्वर मेहता ने कहा कि सीपीआई झारखंड में कम्युनिस्ट पार्टी 16 से 17 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. 

झारखंड: सीपीआई ने की रामगढ़ से उम्मीदवार की घोषणा, 17 सीटों पर लड़ेगी चुनाव
सीपीआई झारखंड में कम्युनिस्ट पार्टी 16 से 17 सीटों पर चुनाव लड़ेगी.

रामगढ़: झारखंड विधानसभा चुनाव में महागठबंधन से अलग होकर के चुनाव लड़ रही सीपीआई पार्टी ने रामगढ़ में उम्मीदवार उतारने की घोषणा की. सीपीआई पार्टी के हजारीबाग के पूर्व सांसद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में भुवनेश्वर मेहता ने कहा कि सीपीआई झारखंड में 16 से 17 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. 

उन्होंने कहा कि हमने पहले कोशिश की थी कि महागठबंधन का हिस्सा बनें लेकिन जिस तरह झारखंड मुक्ति मोर्चा और कांग्रेस ने जिस तरह से लोकसभा चुनाव में छगा था उसी तरह विधानसभा चुनाव में ठगने का काम किया है तो हमने अपने स्टेट कमेटी में तय किया कि सीपीआई-सीपीएम और मासस और माले जो चारों वामपंथी पार्टियां हैं वह मिलकर चुनाव लड़ेंगी. हम 10 सीटों पर घोषणा पहले ही कर चुके हैं लोग तैयारी कर रहे हैं आज 11वा सीट बड़कागांव से हमने मिथिलेश कुमार दांगी को टिकट दिया है.

साथ ही उन्होंने कहा कि झारखंड में पिछले कुछ समय से झारखंड में विस्थापन सबसे बड़ा मुद्दा है. यहां रोजगार भी बड़ा मुद्दा है. रोजगार के लिए यहां के लोग बड़े पैमाने पर बाहर जा रहे हैं. अनपढ़ लोगों को छोड़ दीजिए तो जिन्होंने बीटेक इंजीनियरिंग या डिप्लोमा किया उसको भी रोजगार नहीं मिल रहा है. वो दस हजार की नौकरी के लिए दरखास्त दे रहे हैं. 

पूर्व सांसद ने कहा कि तीसरा मुद्दा है किसानों के लिए यहां पर तीन लाख 65 हजार करोड़ रुपैया केंद्र सरकार ने बैंकों का कर्ज माफ कर दिया लेकिन आज किसान बैंक के लोन के बोझ से साढ़े बारह हजार किसान आत्महत्या कर रहे हैं. झारखंड में भी 14 किसानों ने आत्महत्या केवल लोन की वजह से किया. इन तमाम मुद्दों को लेकर के हम चुनाव लड़ेंगे.