गुलनाज को जिंदा जलाने को लेकर CPI ने निकाला प्रतिरोध मार्च, नीतीश सरकार को घेरा

विश्वजीत कुमार ने कहा कि यह बेहद अफसोस जनक है कि अभी तक गुलनाज के परिजनों को ना कोई सुरक्षा दी गई है ना कोई मुआवजा राशि मुहैया कराई गई है.  

गुलनाज को जिंदा जलाने को लेकर CPI ने निकाला प्रतिरोध मार्च, नीतीश सरकार को घेरा
गुलनाज को जिंदा जलाने को लेकर CPI ने नीतीश कुमार सरकार पर निशाना साधा. (फाइल फोटो)

पटना: सोमवार को भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (CPI) पटना शहर कमेटी द्वारा भाकपा के राज्यव्यापी आह्वान के तहत वैशाली की बेटी गुलनाज को न्याय एवं महिलाओं- बेटियों पर बढ़ते हमले के खिलाफ पटना के काजीपुर स्थित भाकपा कार्यालय से एक आक्रामक प्रतिरोध मार्च निकाला, जो काजीपुर, लंगरटोली, सब्जीबाग, अशोक राजपथ होते हुए शहीद भगत सिंह- कारगिल चौक गांधी मैदान पहुंचा. जहां यह प्रतिरोध मार्च सभा में तब्दील हो गया जिसकी अध्यक्षता आफताब अहमद ने की.

सभा को संबोधित करते हुए भाकपा नेता एवं पटना जिला प्रभारी विश्वजीत कुमार ने कहा कि राज्य में अपराध को नियंत्रित करने में सरकार पूर्णतः असफल है और यह बेहद अफसोस जनक है कि अभी तक गुलनाज के परिजनों को ना कोई सुरक्षा दी गई है ना कोई मुआवजा राशि मुहैया कराई गई है.

उन्होंने अविलंब 25 लाख मुआवजा और परिवार को सरकारी नौकरी की मांग की. भाकपा नेता मोहन प्रसाद ने संबोधित करते हुए नीतीश सरकार (Nitish Kumar) की विफलताओं से अवगत कराया और कहा कि आज पार्टी सदन के अंदर और बाहर हमलोग मजबूती से इस मुद्दे को उठा रहे हैं. जब तक यह सरकार हमारी मांगों को पूरा नहीं करती है तो हम अपने आंदोलन को और तेज करेंगे.