गोपालगंज में बेखौफ अपराधी, अधिवक्ता को बीच रास्ते में गोली मार हो गए फरार

बताया जाता है कि जब टुनटुन राम अपने असिस्टेंट के साथ गोपालगंज कोर्ट आ रहे थे, तभी बाइक सवार दो अपराधियों ने उन्हें पीछे से गोली मार दी. बाइक सवार दोनों अपराधियों ने अपनी पहचान छुपाने के नियत से मुहं छुपा रखा था. गोली अधिवक्ता के पीठ में लगी है. अपराधी उनको गोली मार कर फरार हो गए. 

गोपालगंज में बेखौफ अपराधी, अधिवक्ता को बीच रास्ते में गोली मार हो गए फरार
बिहार के गोपालगंज में अपराधियों ने अधिवक्ता को गोली मार हुए फरार. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मुजफ्फरपुर: बिहार के गोपालगंज में बेखौफ अपराधियों ने अधिवक्ता को सरेआम गोली मारकर गंभीर रूप से घायल कर दिया. घायल अधिवक्ता को सदर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया जहां डॉक्टरों ने गंभीर हालत को देखते हुए गोरखपुर के लिए रेफर कर दिया है. घायल अधिवक्ता उचकागांव थाना क्षेत्र के बरगछिया गांव के स्वर्गीय मुन्नीलाल के 35 वर्षीय पुत्र टुनटुन प्रसाद है.

अपराधियों ने नगर थाना के बसडीला गांव के नहर के समीप घटना को अंजाम दिया है.

बताया जाता है कि जब टुनटुन राम अपने असिस्टेंट के साथ गोपालगंज कोर्ट आ रहे थे, तभी बाइक सवार दो अपराधियों ने उन्हें पीछे से गोली मार दी. बाइक सवार दोनों अपराधियों ने अपनी पहचान छुपाने के नियत से मुहं छुपा रखा था. गोली अधिवक्ता के पीठ में लगी है. अपराधी उनको गोली मार कर फरार हो गए. घटना की वजह जमीनी विवाद बताया जा रहा है.

बताया जाता है कि उनकी जमीन बरगछिया गांव में ही है. उनकी जमीन को लेकर कुछ लोगों से विवाद चल रहा था. हो सकता है इस गोलीबारी की वजह यहीं विवाद रहा हो. हालांकि घटना की सुचना मिलते ही सदर एसडीपीओ नरेश पासवान सहित नगर थाना पुलिस भी घटनास्थल पर पहुंचकर मामले की जांच में जुट गए हैं.

अधिवक्ता विशाल राज ने बताया की गोली उनकी पीठ में लगी है. अपराधी बाइक पर सवार थे. घटना को अंजाम देने के बाद वे वापस पीछे की तरफ भाग गए.

वहीं घटना के बाद गोपालगंज के अधिवक्ताओं ने हंगामा शुरू कर दिया है. सभी अधिवक्ता गोपालगंज कोर्ट के काम को ठप कर शहर के मोनिया चौक पर प्रदर्शन कर रहे हैं. अधिवक्ताओं को समझाने के लिए पहुंचे सदर एसडीपीओ को भी लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा. सभी अधिवक्ता अपराधियो की गिरफ्तारी की मांग कर रहे है.

एसपी मनोज कुमार तिवारी ने इस पूरे मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं. सदर एसडीपीओ नरेश पासवान का कहना है कि इस मामले में पीड़ित पक्ष की ओर से अब तक बयान नहीं दिया गया है. उन्होंने कहा जो भी नामजद होंगे उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.