शहीद रतन ठाकुर को तीन साल के बेटे ने दी मुखाग्नि, अंतिम विदाई में उमड़ा जनसैलाब

शहीद रतन ठाकुर को अंतिम विदाई देने के लिए आज भागलपुर के कहलगांव में जनसैलाब उमड़ पड़ा. 

शहीद रतन ठाकुर को तीन साल के बेटे ने दी मुखाग्नि, अंतिम विदाई में उमड़ा जनसैलाब
शहीद रतन ठाकुर को दी गई अंतिम विदाई.

भागलपुरः जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमले में बिहार के भागलपुर का रहने वाला रतन ठाकुर ने भी अपनी शहादत दी. शहीद रतन ठाकुर को अंतिम विदाई देने के लिए आज भागलपुर के कहलगांव में जनसैलाब उमड़ पड़ा. लोग रतन ठाकुर अमर रहे का नारा लगाते रहे. वहीं, शहीद रतन के तीन साल के बेटे कृष्णा ने मुखाग्नि दी है.

शहीद रतन ठाकुर का पार्थिव शरीर शनिवार सुबह पटना पहुंचा. जहां सीएम नीतीश कुमार समेत कई नेताओं ने श्रद्धांजलि दी. वहीं, पटना से शहीद रतन ठाकुर का पार्थिव शरीर हैलीकॉप्टर से कहलगांव एनटीपीसी हैलीपैड पर उतारा गया. जिसके बाद तिरंगे में लिपटे रतन ठाकुर को उनके पैतृक गांव ले जाया गया.

इससे पहले ही जनसैलाब शहीद रतन ठाकुर का इंतजार उनके घर पर कर रहा था. जैसे ही पार्थिव शरीर घर पहुंचा लोगों ने कहा रतन आ गया. यह सुनते ही परिवार से लेकर गांव के सभी लोगों में चीख चिल्लाहट गुंज उठी. सभी के आंख नम थे. वहीं, रतन के पिता ने बेटे को सलामी दी. यह मंजर काफी भयावह था.

इस दौरान लोगों की आंखे जहां नम थी वहीं, पाकिस्तान और आतंकियों के लिए गुस्सा और आक्रोश नजर आ रहा था. लोगों के मुंह से पाकिस्तान मुर्दाबाद और रतन ठाकुर अमर रहे के नारे लगातार निकल रहे थे.

वहीं, हजारों लोग अंतिम विदाई में शामिल हुए. अंतिम यात्रा की आवश्यक विधि-विधान पूरी करने के बाद कहलगांव श्मशान घाट ले जाया गया. यहां गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया. इसके बाद तीन साल के पुत्र कृष्णा ने मुखाग्नि दी. 

वहीं, बिहार सरकार की ओर से 11 लाख का चेक शहीद के घर लेकर प्रशासन के अधिकारी पहुंचे थे. एलआइसी के अधिकारी दो लाख 23 हजार 900 रुपये के चेक शहीद की पत्नी को सौंपे.