close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नवरात्रि: 'बाबा नगरी' में डांडिया की धूम, अनाथ, असहाय, वृद्धों के लिए विशेष आयोजन

देवघर डीसी का कहना है कि इन बच्चों और वृद्ध महिलाओं का कोई नहीं हैं. उनकी दुर्गा माता है. डांडिया तो कई जगह होते हैं लेकिन इनको समाज की मुख्यधारा से जोड़ने का हमने एक प्रयास किया है.

नवरात्रि: 'बाबा नगरी' में डांडिया की धूम, अनाथ, असहाय, वृद्धों के लिए विशेष आयोजन
देवघर में डांडिया की धूम.

दीप, देवघर: देशभर में इस वक्त नवरात्रि की धूम देखने को मिल रही है. हिन्दुस्तान के कोने-कोने में इस वक्त हर कोई अपने तरीके से मां दुर्गा की आराधना में जुटा हुआ है. लोग बड़े ही हर्षोल्लास के साथ डांडिया खेलते हैं और मां की आराधना करते हैं. लेकिन झारखंड के देवघर में जिला प्रशासन ने इस बार एक अनोखा डांडिया कार्यक्रम आयोजित किया है. दरअसल जिला प्रशासन ने अनाथ, असहाय और वृद्ध लोगों के लिए इस बार डांडिया कार्यक्रम का आयोजन किया है.

हमारे देश में ऐसे बहुत से लोग जिनका कोई नहीं है. या होने के बाद भी नहीं है. ऐसे में उन लोगों को समाज के साथ जुड़ा हुआ महसूस करवाने के लिए जिला प्रशासन ने एक अच्छी पहल की शुरुआत की .देवघर डीसी की पहल पर सरस कुंज में डांडिया का आयोजन किया गया. इस कार्यक्रम में देवघर डीसी नैंसी सहाय और देवघर एसडीओ विशाल सागर पहुंचे. दोनों ही अपने पूरे परिवार के साथ यहां पहुंचे. 

इतना ही नहीं इस कार्यक्रम में रेड क्रॉस सोसाइटी और अन्य संस्थाएं भी शामिल हुई. डीसी ने वहां मौजूद लोगों के साथ डांडिया खेला. एसडीओ विशाल सागर ने भी वहां के कर्मचारियों और अमाथ बच्चों के साथ खूब डांडिया खेला. रेड क्रॉस सोसायटी एक संस्था है जो जहां नेत्रहीन और बधिर बच्चों का खर्चा उठाती है. अनाथ बच्चे और असहाय वृद्ध महिलाएं भी यहां रहती है. इन सभी लोगों की दुर्गा पूजा को खुशियों से भरने के लिए डीसी नैंसी सहाय ने ये अनोखा प्रयास किया.

देवघर डीसी का कहना है कि इन बच्चों और वृद्ध महिलाओं का कोई नहीं हैं. उनकी दुर्गा माता है. डांडिया तो कई जगह होते हैं लेकिन इनको समाज की मुख्यधारा से जोड़ने का हमने एक प्रयास किया है. इनको एक परिवार जैसा माहौल देने के लिए इनके साथ डांडिया खेलना अच्छा लगता है.

वहीं एसडीओ विशाल सागरने बताया कि ये समाज से अलग नहीं है और पूरा जिला प्रशासन इनके लिए खड़ा है. इनके जीवन में खुशियां भरने के लिए ये पहल की गई है. इन बच्चों के साथ डांडिया खेल कर अधिकारी काफी खुश दिखाई दिए. इंडिया के आयोजन में देवर के तमाम नामचीन लोग पहुंचे थे.  इस मौके पर सरस कुंज के बच्चों ने भी डांडिया खेला. देवघर जिला प्रशासन की ये पहल वाकई काबिले तारीफ है. इन ब्च्चों को मुख्यधारा से जोड़ने का जो काम प्रशासन ने किया. उसकी हम सराहना करते है.