close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दरभंगा: पुलिस ने जब्त किया 287 कार्टून शराब, CRPF का पूर्व जवान करता था ट्रक को स्कॉट

 पुलिस ने 287 कार्टून शराब से लदे ट्रक और इसे स्कॉर्ट कर रही महिंद्रा एक्सकीयूवी गाड़ी सहित अंतरराज्य 5 शराब कारोबारियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. उनके पास से सात मोबाईल फोन एक राइफल बरामद हुआ है.

दरभंगा: पुलिस ने जब्त किया 287 कार्टून शराब, CRPF का पूर्व जवान करता था ट्रक को स्कॉट
पुलिस ने इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया है.

दरभंगा: बिहार के दरभंगा जिले में एनएच-57 पर सदर थाना क्षेत्र में पुलिस ने 287 कार्टून शराब से लदे ट्रक और इसे स्कॉर्ट कर रही महिंद्रा एक्सकीयूवी गाड़ी सहित अंतरराज्य 5 शराब कारोबारियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. उनके पास से सात मोबाईल फोन एक राइफल बरामद हुआ है.

दरअसल यह पूरा मामला है कि एनएच-57 पर एक ट्रक तेजी से जा रही थी ठीक उसके आगे एक महिंद्रा एक्सकीयूवी गाड़ी स्कॉट कर शराब माफिया ट्रक को अपने ठिकाने तक ले जा रहे थे. रास्ता क्लियर मिले और आगे-आगे पुलिस की रेकी की जा सके इसके लिए स्कॉट गाड़ी को वीआईपी का रूप दिया गया था. सामने में एक शख्स राइफल लेकर गाड़ी में बैठा था जैसे कोई वीआईपी का बॉडीगार्ड हो, जिसे देख पुलिस और आम लोगो को लगे की किसी वीआईपी की ट्रक है.

इस घटना की जानकारी दरभंगा एसएसपी को मिली. एसएसपी के निर्देश पर तकनीकी विभाग ने जाल बिछाया. पुलिस को यह अहसास नहीं था कि इस शराब की खेप को कोई हथियार के साथ स्कॉट भी कर रहा है. बीच रास्ते में ट्रक को जब पुलिस वालों ने घेर लिया तो आगे से महिंद्रा एक्सकीयूवी स्कॉर्ट कर रही गाड़ी वापस हो गई. सुनसान जगह ट्रक को खड़ा देखकर बगल में आकर रुकी और ट्रक चालक को आवाज लगाया. 

इतना सुनते ही पुलिस वालों ने चारों ओर से गाड़ी को घेर कर अंदर बैठे तीन लोगों को राइफल के साथ दबोच लिया. शराब सहित ट्रक ही नहीं बल्कि स्कॉट कर रही गाड़ी राइफल सहित सभी कारोबारी पुलिस के हत्थे चढ़ गए.

वहीं, दरभंगा सिटी एसपी योगेंद्र कुमार ने बताया की बहुत बड़े शराब तस्कर गिरोह की गिरफ्तारी हुई है. ये लोग दिल्ली हरियाणा से शराब ला कर दरभंगा में बेचते थे. उनसे जब ये पूछा गया की क्या बिहार के शराब कारोबारी आजकल बाउंसर का यूज करने लगे है तो उन्होंने बताया बाउंसर सीआपीएफ की ट्रेनिंग प्राप्त कर चूका है और उसके बाद वीआरएस ले लिया है और उसने प्राइवेट सिक्योरिटी कंपनी स्थापित की है.

वहीं, गिरफ्तार सीआपीएफ से वीआरएस लेकर बाउंसर बने बिवेक ने बताया कि वो अब प्राइवेट बॉडीगार्ड का काम करता है. साढ़े चार साल नौकरी के बाद रिजाइन दे चुका था.