दरभंगा एयरपोर्ट के जीर्णोद्धार का रास्ता साफ, रक्षा मंत्रालय ने दिया एनओसी

रक्षा मंत्रालय ने दरभंगा एयरबेस के रनवे के मजबूतीकरण, टर्मिनल बिल्डिंग सहित अन्य विभिन्न निर्माण कार्य करने के लिए एनओसी दे दिया है.

दरभंगा एयरपोर्ट के जीर्णोद्धार का रास्ता साफ, रक्षा मंत्रालय ने दिया एनओसी
उड़ान योजना के तहत हो रहा है दरभंगा एयरपोर्ट का विस्तार. (फाइल फोटो)

दरभंगा : केंद्र सरकार की उड़ान योजना के तहत दरभंगा एयरपोर्ट के जीर्णोद्धार का रास्ता साफ हो गया है. रक्षा मंत्रालय ने दरभंगा एयरबेस के रनवे के मजबूतीकरण, टर्मिनल बिल्डिंग सहित अन्य विभिन्न निर्माण कार्य करने के लिए एनओसी दे दिया है. इस बात की जानकारी देते हुए जेडीयू के राष्ट्रीय महासचिव संजय झा ने कहा कि रक्षा मंत्रालय के इस एनओसी के बाद जल्द ही दरभंगा एयरपोर्ट पर निर्माण कार्य की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. ज्ञात हो कि 19 सितंबर को ही दिल्ली की एक कंपनी को रनवे के मजबूतीकरण के लिए टेंडर फाइनल हो चुका है.

जेडीयू नेता बताया कि केंद्र और राज्य सरकार के परस्पर सहयोग से बन रहे दरभंगा एयरपोर्ट पर निर्माण कार्य जल्द शुरू हो इसके लिए रक्षा मंत्रालय से एनओसी दिलवाने के लिए उन्होंने बीते सप्ताह देश के रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण जी से बात की थी. विदेश यात्रा से वापस लौटते ही रक्षा मंत्री ने दरभंगा एयरपोर्ट के लिए एनओसी जारी करने के लिए अधिकारियों को आदेश दिए. उन्होंने रक्षा मंत्री के प्रति आभार प्रकट किया है.

दरभंगा में एयरपोर्ट बनने से बदलेगी पूरे नॉर्थ बिहार की तस्वीर : संजय झा

दरभंगा से उड़ेंगे 180 सीटर विमान
ज्ञात हो कि इसी वर्ष 13 जून को संजय झा ने एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के चेयरमैन गुरुप्रसाद मोहपात्रा और बिहार के रेजिडेंट कमिश्नर और अन्य पदाधिकारियों के साथ एक बैठक की थी. इस बैठक में तीन महत्वपूर्ण मसले पर चर्चा हुई थी, जिनमें रनवे का जीर्णोद्धार, अस्थायी टर्मिनल बिल्डिंग का निर्माण और जमीन अधिग्रहण का मुद्दा शामिल था. उन्होंने कहा कि रनवे को मजबूत करना अत्यंत आवश्यक काम था. एक बार रनवे दुरुस्त हो जाने के बाद दरभंगा में 180 सीटर या उससे अधिक क्षमता वाले हवाई जहाज भी लैंड कर पाएगा.

दरभंगा में एयरपोर्ट बनने से बदलेगी पूरे नॉर्थ बिहार की तस्वीर : संजय झा
 
उड़ान योजना के तहत हो रहा है दरभंगा एयरपोर्ट का जीर्णोद्धार
गौरतलब है कि दरभंगा में एयरपोर्ट की बात भारत सरकार के उड़ान योजना से संबंधित है. नरेंद्र मोदी की सरकार ने क्षेत्रीय एयरपोर्ट को बढ़ावा देने के लिए 2016 में उड़ान स्कीम को लॉन्च किया था. इसके बाद ही पटना में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और तत्कालीन नागरिक उड्डयन मंत्री के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर हुआ. दरभंगा और पूर्णिया में एयरपोर्ट को उड़ान योजना में शामिल किया. बिहार सरकार को इसके लिए जमीन अधिग्रहण कर देना है. दरभंगा के डीएम ने इसके लिए प्रस्ताव सरकार को भेजा है.

दरभंगा एयरपोर्ट पर निर्माण कार्य में तेजी लाने के लिए हाल ही में बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने भी दिल्ली में नागरिक उड्डयन मंत्री और विभागीय सचिव के साथ बैठक की थी. साथ ही मुख्यमंत्री का सचिवालय भी लगातार केंद्र सरकार के संपर्क में है.

नीतीश कुमार और अरुण जेटली भी कर चुके हैं दरभंगा एयरपोर्ट का जिक्र
दिल्ली में पिछले साल 24 दिसंबर को हुए मिथिला समाज के एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा था कि जल्द ही दरभंगा से लोग उड़ान सेवा का लाभ उठा पाएंगे. इस मौके पर सीएम ने कहा था कि भूमि अधिग्रहण में पैसे की दिक्कत नहीं आएगी. ठीक इसके अगले ही दिन बाद 25 दिसंबर को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी के जन्मदिन के कार्यक्रम में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी कहा था कि उड़ान योजना में दरभंगा पर विशेष ध्यान है और इसे प्राथमिकता दी जा रही है.

संजय झा ने कहा कि मुझे पूरा भरोसा है कि रक्षा मंत्रालय से एनओसी मिलने के बाद जल्द ही रनवे का जीर्णोद्धार, अस्थायी टर्मिनल का निर्माण कार्य पूर हो जाएगा. 2019 में दरभंगा से भी उड़ान सेवा आरंभ हो जाएगी और देश की हवाई सेवा के मानचित्र पर मिथिला का नाम भी दर्ज हो जाएगा.