कोरोना गाइडलाइंस की उड़ रही धज्जियां, संक्रमण का लोगों में नहीं दिख रहा डर!

Bokaro Samachar: यहां दुकान संचालक पीछे की दरवाजे से चाय और भूंजा की दुकानदार भूंजा बैचते पाएं गए.   

कोरोना गाइडलाइंस की उड़ रही धज्जियां, संक्रमण का लोगों में नहीं दिख रहा डर!
बोकारो में कोरोना गाइडलाइंस की उड़ रही धज्जियां. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Bokaro: बोकारो के जारंगडीह में राज्य सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन और निर्देशों को ताक पर रखकर पीछे के दरवाजे से चलाया जा रहा है.  दुकानदारी,‌ स्वास्थ सुरक्षा सप्ताह के तीसरे चरण के अंतिम दिन देर रात को उक्त तस्वीरें देखने को मिली.  यहां दुकान संचालक पीछे की दरवाजे से चाय और भूंजा की दुकानदार भूंजा बैचते पाएं गए. इतना ही कुछ लोगों ने अनावश्यक रूप से घरों से चाय का लुत्फ उठाने के लिए घरों से बाहर निकल रहें हैं. 

ये भी पढ़ेंः कोरोना में आगे आया ESL स्टील लिमिटेड, बोकारो-धनबाद में दी Oxygen की आपूर्ति

इधर,  राज्य सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन को ताक पर रख कर दुकानदारी करने वाले दुकान संचालक का मनोबल बढ़ा रहे हैं. अब सवाल यह उठता है कि आखिर क्यों ऐसी लापरवाही बरती जा रही है. आखिर लोग इस विकट परिस्थिति में घरों में रहकर सर्तक और सुरक्षित रहना क्यों नहीं चाह रहे हैं.  

दरअसल, यह तस्वीरें जारंगडीह साइडिंग के पास मुख्य सड़क की है. यहां आस-पास के कुछ दुकानदार निर्देशों को ताक पर रखकर दुकानदारी कर रहे हैं. जो प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती बन गई है.  वहीं दवाईयों की दुकान में भी दुकानदार बिना मास्क पहने ही दवा बेचते देखे जा रहे है. जो लापरवाही का एक कारण है. 

ये भी पढ़ेंः कोरोना के बीच गरीबों के लिए राहत, महामारी में तैयार हुई कोविड चालीस की टीम

बता दें कि झारखंड में आज से स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह के तहत सख्ती फिर से लागू कर दिया गया है. वहीं, राज्य में 16 मई से 27 मई तक सख्ती से स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह (लॉकडाउन) लागू किया गया है. इस दौरान बिना ई-पास के घर से बाहर निकलने पर मनाही है. साथ हीं, बसों का परिचालन भी आज से बंद कर दिया गया है. ई-रिक्शा और व्यावसायिक वाहन के लिए पास की आवश्यकता नहीं है. वहीं, दूसरे राज्यों से आने वाले वाहनों के लिए कुल 98 चेक पोस्ट बनाए गए हैं.

 (इनपुट-मृत्युंजय मिश्रा)