बिहार : दर्जनों मरीजों की मौत के बाद डॉक्टरों की हड़ताल हुई खत्म

राज्य सरकार द्वारा डॉक्टरों की मांगों को लेकर दिए गए आश्वासन के बाद यह हड़ताल आज समाप्त हो गई . 

बिहार : दर्जनों मरीजों की मौत के बाद डॉक्टरों की हड़ताल हुई खत्म
पीएमसीएच और डीएमसीएच के डॉक्टर भी गुरुवार सुबह समर्थन दिखाते हुए हड़ताल में शामिल हो गए थे. (फाइल फोटो)

पटना: बिहार में डॉक्टरों की हड़ताल से लगभग दर्जनभर मरीजों की मौत हो गई . राज्य सरकार द्वारा डॉक्टरों की मांगों को लेकर दिए गए आश्वासन के बाद यह हड़ताल आज समाप्त हो गई . 

पटना मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (पीएमसीएच), नालंदा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (एनएमसीएच) और दरभंगा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (डीएमसीएच) के जूनियर डॉक्टरों ने बिहार के मुख्य सचिव दीपक कुमार के गुरुवार रात मांगे पूरी होने के आश्वासन के बाद हड़ताल खत्म की .

स्वास्थ्य सचिव संजय कुमार ने कहा, 'सरकार के आश्वासन के बाद सभी हड़ताली डॉक्टर काम पर लौट आए हैं.' एनएमसीएच के जूनियर डॉक्टर मंगलवार को एक मरीज के परिवार के हमले के बाद हड़ताल पर चले गए थे. पीएमसीएच और डीएमसीएच के डॉक्टर भी गुरुवार सुबह समर्थन दिखाते हुए हड़ताल में शामिल हो गए . 

वो ड्यूटी के दौरान जूनियर डॉक्टरों की सुरक्षा की मांग कर रहे हैं और मरीजों के दुर्व्यवहार करने वालों परिजनों के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं. प्रधान सचिव के अस्वासन के बाद जूनियर डॉक्टरों ने हड़ताल तो समाप्त कर दिया गया लेकिन जेडीए के अध्यक्ष विनय कुमार ने सरकार को 15 दिनों का अल्टीमेटम दिया है. 

उन्होंने कहा है कि मेडिकल एक्ट के तहत डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए टीओपी पॉइन्ट गार्ड सुरक्षा और दवाइयों की कमी को पूरा किया जाए और इसकी निगरानी की जाए नही तो पंद्रह दिन के बाद सभी डॉक्टर हड़ताल पर चले जाएंगे. (इनपुट: IANS से भी)