close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पटना: पहले भी बेऊर पुलिस पर लगा है घूसखोरी का आरोप, 2017 में 40 पुलिसकर्मियों पर गिरी थी गाज

2017 में बेउर के थानेदार से लेकर दरोगा तक घूसखोरी का आरोप लगा था. तब डीआईजी सेंट्रल रेंज शालीन के निर्देश तत्कालीन एसएसपी मनुमहाराज ने इंस्पेक्टर से लेकर सिपाही तक करीब 40 पुलिसकर्मियों को एक साथ लाइन हाजिर कर दिया था. 

पटना: पहले भी बेऊर पुलिस पर लगा है घूसखोरी का आरोप, 2017 में 40 पुलिसकर्मियों पर गिरी थी गाज
पटना के नौबतपुर थानां क्षेत्र में 18 लाख के सिक्के लूट कांड में बड़ा खुलासा हुआ है.

पटना: बिहार में इन दिनों अपराधी आम आदमी और व्यवसायियों को लूट रहे हैं और दूसरी ओर पटना पुलिस लुटेरों को निशाना बना कर लुटे हुए पैसे से अपनी जेब भर रहे हैं. बताते चले की बेऊर थाने के लिए यह कोई नया मामला नहीं है. पहले भी बेऊर पुलिस पर लुटेरों को लूटने और घूसखोरी का आरोप लगते रहा है. 

2017 में बेउर के थानेदार से लेकर दरोगा तक घूसखोरी का आरोप लगा था. तब डीआईजी सेंट्रल रेंज शालीन के निर्देश तत्कालीन एसएसपी मनुमहाराज ने इंस्पेक्टर से लेकर सिपाही तक करीब 40 पुलिसकर्मियों को एक साथ लाइन हाजिर कर दिया था. तब शराब माफियाओं से अवैध वसूली का आरोप प्रमाणित हुआ था और शराबबंदी के बाद पूरे बिहार में एक बड़ी करवाई हुई थी जब पूरे थाने को निलम्बित कर दिया गया था.

अब एक ताजा मामला सामने आया है राजधानी पटना के नौबतपुर थानां क्षेत्र में 18 लाख के सिक्के लूट कांड में बड़ा खुलासा हुआ है. पटना पुलिस ने लूट कांड शामिल 5 लुटेरों को गिरफ्तार किया और जब उनसे पूछताछ के बाद दो और अपराधी गिरफ्तार किए गए गिरफ्तार अपराधियो के द्वारा चौकाने वाला खुलासा तब हुआ जब उससे पूछताछ शुरू की गई उनकी निशानदेही पर लूट के 2 लाख के सिक्के भी बरामद किये गए है.

गिरफ्तार लुटेरों ने पटना पुलिस को बताया कि 15-16 जुलाई को सुबह घटना को अंजाम देकर भाग रहे थे तो बेउर पुलिस की गश्ती ने थाना लाकर 1.5 लाख रुपये लेकर थानाध्यक्ष ने सभी को छोड़ दिया था. 

मामले का खुलासा होने के बाद डीआईजी सेन्ट्रल रेंज राजेश कुमार ने बेउर थानाध्यक्ष प्रवेश भारती, दरोगा सुनील चौधरी, एएसआई विनोद कुमार और होम गार्ड के दो जवान कृष्ण मुरारी, और बिनोद शर्मा को गिरफ्तार कर लिया साथ ही गश्ती दल के प्राइवेट चालक की मिलीभगत होने पर उसके खिलाफ भी प्राथमिकी दर्ज कर मामले की.जांच के एएसपी दानापुर को जिम्मा सौंपा गया है और अन्य अपरधियों की गिरफ्तारी के लिए छपेमारी जारी है