मुंगेर बनेगा बिहार का पहला जिला, जहां घर-घर होगी बिजली

उर्जा विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने इस बात की जानकारी देते हुए कहा कि इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए 10 जून का लक्ष्य रखा गया है. 

मुंगेर बनेगा बिहार का पहला जिला, जहां घर-घर होगी बिजली
10 जून मुंगेर के हर घर तक बिजली पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मुंगेर : मोदी सरकार के सौभाग्य योजना के तहत देश के हर घर तक बिजली पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है. बिहार में भी बड़े पैमाने पर इसके लिए काम चल रहा है. अगर सबकुछ ठीक रहा तो मुंगेर बिहार का पहला जिला होगा, जहां घर-घर बिजली का कनेक्शन पहुंचा दिया जाएगा. ताजा रिपोर्ट के मुताबिक महज 1400 घर बचे हैं, जहां अभी तक बिजली नहीं पहुंची है.

उर्जा विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने इस बात की जानकारी देते हुए कहा कि इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए 10 जून का लक्ष्य रखा गया है. इस दौरान बचे 1400 घरों तक बिजली पहुंचा दी जाएगी. साथ ही उन्होंने कहा कि जून के अंत तक बिहार के आठ जिलों में घर-घर बिजली पहुंचा दी जाएगी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 सितंबर 2017 को दीनदयाल ऊर्जा भवन का लोकार्पण किया था. इस दौरान उन्होंने हर घर को बिजली देने की घोषणा करते हुए सौभाग्य योजना का ऐलान किया. इसके तहत देश के गरीब परिवार को मुफ्त में बिजली के कनेक्शन दिए जाएंगे. योजना का पूरा नाम 'प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना' है. योजना के तहत 31 मार्च 2019 तक हर घर में बिजली पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है.

इस योजना की शुरुआत करते हुए पीएम मोदी ने कहा था कि गरीबों से बिजली कनेक्शन के लिए कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा. 16,000 करोड़ रुपये की लागत से गरीबों के घरों तक बिजली पहुंचाई जाएगी. ज्ञात हो कि हाल ही में देश के 18 हजार गांवों तक बिजली पहुंचा दी गई है. इसके साथ ही देश के हर गांव बिजली पहुंच गई है. अब हर घर तक बिजली पहुंचाने पर काम चल रहा है.