Breaking News
  • बिहार के लोग इतनी बड़ी आपदा का डटकर मुकाबला कर रहे हैं, इसके लिए बधाई: पीएम मोदी
  • बिहार विधान सभा चुनावी रैली में पीएम मोदी ने भोजपुरी में लोगों को किया प्रणाम
  • कोरोना के इस समय में भी गरीबों को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए एनडीए सरकार ने काम किया: पीएम मोदी

झारखंड: विधायकों के निष्कासन से JVM में बढ़ा मनमुटाव! दो खेमे में बटी पार्टी

जेवीएम में उथल-पुथल बढ़ी है. चुनाव के बाद पार्टी प्रमुख ने जहां कार्यकारिणी को भंग कर दिया, इसके बाद जब नई समिति का गठन किया गया तो कई बड़े नेताओं के पर कतर दिए गए.

झारखंड: विधायकों के निष्कासन से JVM में बढ़ा मनमुटाव! दो खेमे में बटी पार्टी
जेवीएम प्रमुख हैं बाबूलाल मरांडी. (तस्वीर साभार-आईएएनएस)

रांची: झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी (Babulal Marandi) की पार्टी झारखंड विकास मोर्चा (JVM) के भारतीय जनता पार्टी (BJP) में विलय को लेकर पार्टी प्रमुख ने मैदान तैयार करने के लिए भले ही विधायकों को पार्टी से निष्कासित कर दिया हो, लेकिन इससे पार्टी में मनमुटाव भी बढ़ गया है.

जेवीएम ने गुरुवार को पोड़ैयाहाट से विधायक प्रदीप यादव को भी पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप में पार्टी से निष्कासित कर दिया. ऐसे भी देखा जाए तो झारखंड विधानसभा चुनाव के बाद अन्य सभी राजनीतिक पार्टियां शांत हैं.

वहीं, जेवीएम में उथल-पुथल बढ़ी है. चुनाव के बाद पार्टी प्रमुख ने जहां कार्यकारिणी को भंग कर दिया, इसके बाद जब नई समिति का गठन किया गया तो कई बड़े नेताओं के पर कतर दिए गए. पार्टी विरोधी गतिविधि के आरोप में पार्टी से मांडर विधायक बंधु तिर्की को और अब पोड़ैयाहाट से विधायक प्रदीप यादव को पार्टी से निष्कासित कर दिया गया.

इससे पहले, प्रदीप यादव को विधायक दल के नेता पद से हटाया गया था. ऐसी स्थिति में जेवीएम के अंदर में दो खेमे बन गए हैं. एक तरफ प्रदीप यादव व बंधु तिर्की हैं, तो वहीं दूसरी ओर पार्टी अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी हैं. सूत्रों का कहना है कि अब पार्टी में कब्जे का खेल शुरू हुआ है. मरांडी ने पुरानी कार्यकारिणी को भंग कर नई कार्यकारिणी बनाई है. कहा जाता है कि मरांडी ने नई कार्यकारिणी में अपने विश्वासी लोगों को रखा है, जो भविष्य में मरांडी के किसी भी निर्णय पर हां में हां मिला सकें.

सूत्रों का कहना है कि यादव और तिर्की अब कांग्रेस (Congress) के साथ मिलकर मरांडी से नाराज लोगों का खेमा तैयार करने में जुटे हैं. उल्लेखनीय है कि जेवीएम के बीजेपी में विलय के कयासों के बीच प्रदीप और बंधु तिर्की कांग्रेस में जाने की बात कर चुके हैं. दोनों विधायक दिल्ली जाकर कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) से भी मिल चुके हैं.

वैसे, सूत्रों का कहना है कि जेवीएम में सहमति बनाने का प्रयास किया गया. विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने मरांडी से बातचीत की, लेकिन बात नहीं बनी. उधर, देवघर जिला के जिलाध्यक्ष नागेश्वर सिंह ने बुधवार को अपने समर्थकों के साथ पार्टी अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी का पुतला दहन किया था. इस बीच मरांडी से नाराज नेताओं का गुट भी तैयार हो रहा है.

पार्टी के महासचिव अभय सिंह ने कहा कि अगले सप्ताह कार्यकारिणी की बैठक बुलाई गई है, जिसमें कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए जाएंगे. सूत्रों का कहना है कि इस बैठक में पार्टी के बीजेपी के साथ विलय का प्रस्ताव तैयार होगा. उल्लेखनीय है कि झारखंड विधानसभा चुनाव में जेवीएम के तीन प्रत्याशी बाबूलाल मरांडी, बंधु तिर्की और प्रदीप यादव विजयी हुए थे.

(इनपुट-आईएएनएस)