close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार : बाढ़ से नहीं दुर्घटना में हुई मासूम की मौत, सोशल मीडिया में वायरल हुई तस्वीर

मामला मुजफ्फरपुर के शीतलपट्टी गांव का है. यहां तीन मासूम बच्चों की बागमती नदी में डूबने से मौत हो गई. उन्हीं में से एक बच्चे की तस्वीर सोशल मीडिया में वायरल हो रही है.

बिहार : बाढ़ से नहीं दुर्घटना में हुई मासूम की मौत, सोशल मीडिया में वायरल हुई तस्वीर
मृत बच्चे की तस्वीर सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हुई.

अरुण श्रीवास्तव, मुजफ्फरपुर : बिहार में बाढ़ का कहर जारी है. इस सबके बीच मंगलवार से एक मासूम के शव की तस्वीर लगातार वायरल हो रही है. तस्वीर के बार में अधिकांश लोग यह कह रहे हैं कि बाढ़ के कारण बच्चे की मौत हुई, लेकिन हकीकत कुछ और है. जी मीडिया ने तस्वीर की पड़ताल की तो यह एक दिल दहला देने वाली दुर्घटना सामने निकलकर आयी.

मामला मुजफ्फरपुर के शीतलपट्टी गांव का है. यहां तीन मासूम बच्चों की बागमती नदी में डूबने से मौत हो गई. उन्हीं में से एक बच्चे की तस्वीर सोशल मीडिया में वायरल हो रही है.

एक महिला अपने चार मासूम बच्चों के साथ बागमती नदी में स्नान करने गई थी. इस दौरान मां अपने चार बच्चों के साथ नदी में डूबने लगी. महिला और एक मासूम को तो स्थानीय लोगों ने बचा लिया, लेकिन तीन की जान चली गई.

जानकारी के मुताबिक, नदी के किनारे महिला कपड़ा धोने लगी. इस बीच तीन महीने का उसका सबसे छोटा बेटा नदी में लुढ़क गया. बेटे को बचाने के लिए रीना गहरे पानी में उतर गई और डूबने लगी. मां को डूबता देख उसके बाकी के तीन बच्चे भी नदी में उतर गए और सभी गहरे पानी में चले गए. मां और बच्चों को डूबते देख स्थानीय लोगों ने उन्हें बचाने की कोशिश की. काफी मशक्कत के बाद ग्रामीणों ने उन्हें पानी से निकाला, लेकिन तब तक उनमें से तीन की मौत हो गई थी.

मृतक बच्चों की पहचान शीतलपट्टी गांव के शत्रुघ्न राम के बेटे अर्जुन, राजा और बेटी ज्योति के रूप में हुई है. मां रीना देवी और एक बेटी राधा को लोगों ने बचा लिया. घटना के बाद से रीना व उसके परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है.

घटना की सूचना मिलते ही सिवाईपट्टी पुलिस मौके पर पहुंच गई. सीओ ने राजस्व कर्मचारी को भी घटनास्थल पर भेजा. लेकिन प्रशासन की ओर से डूबे हुए बच्चों की तलाशी अभियान शुरू नहीं कराने से लोगों में काफी आक्रोश था. ग्रामीणों ने खूद उपधारा से तीनों बच्चों के शव को खोजकर निकाला.