close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: बांका के इस 70 साल के बुजुर्ग की 'तालाब क्रांति' ने सूखे खेतों में ला दी हरियाली

पंजरपट्टा गांव के किसान द्वारिका यादव कहते हैं कि राज्य सरकार ने इस साल भी बांका के कुछ प्रखंड सहित कई जिलों में सूखे की घोषणा की है, लेकिन कटोरिया उस सूची में नहीं है. यहां लगभग 70 प्रतिशत धान की खेती हुई है.

बिहार: बांका के इस 70 साल के बुजुर्ग की 'तालाब क्रांति' ने सूखे खेतों में ला दी हरियाली
70 वर्षीय इस बुजुर्ग की तालाब क्रांति से पानी के स्रोत तक ऊपर आ गए.

बांका: बिहार के कई जिले प्रत्येक साल प्राकृतिक प्रकोप का शिकार बनते रहे हैं. बांका जिले के कई प्रखंड भी प्रत्येक साल सूखे की चपेट में आते थे, लेकिन एक बुजुर्ग के प्रयास और उनके द्वारा दिखाई गई राह ने जिले के कटोरिया और चांदन प्रखंड के कम से कम 10 ग्राम पंचायतों को सूखे से मुक्ति दिला दी. 70 वर्षीय इस बुजुर्ग की तालाब 'क्रांति' से इन पंचायतों में पानी के सोते (स्रोत) तक ऊपर आ गए. 

बांका के कटोरिया और चांदन प्रखंड की मुख्य फसल धान और गन्ना है. इन दोनों फसलों में सिंचाई के लिए पानी की अधिक जरूरत होती है, जिस कारण कोई भी किसान एक साल में एक ही फसल उपजा पाता था. बताया जाता है कि यहां की कृषि पूरी तरह मानूसन की बारिश पर निर्भर थी.

यहां के ग्रामीण बताते हैं कि अल्पवृष्टि के कारण इस क्षेत्र में अक्सर सूखे की स्थिति बन जाती थी. ऐसे में एक दशक पूर्व 70 वर्षीय किसान अनिरुद्ध प्रसाद सिंह ने यहां के पुराने जलस्रोत- तालाबों, नालों और तटबंधों को पुनजीर्वित करने का बीड़ा उठाया और अब इस क्षेत्र में सूखा बीते दिनों की बात हो गई है. 

पंजरपट्टा गांव के किसान द्वारिका यादव कहते हैं कि राज्य सरकार ने इस साल भी बांका के कुछ प्रखंड सहित कई जिलों में सूखे की घोषणा की है, लेकिन कटोरिया उस सूची में नहीं है. यहां लगभग 70 प्रतिशत धान की खेती हुई है. वे बताते हैं कि अनिरुद्ध बाबू के प्रयास से आज इन दोनों प्रखंडों में 150 तालाब, चेकडैम और लिट सिंचाई आबाद हो गए हैं, जिससे पानी के सोते, जो नीचे चले गए थे वे काफी ऊपर आ गए हैं. 

कटोरिया के डोमसरनी गांव के रहने वाले अनिरुद्ध प्रसाद सिंह ने आईएएनएस से कहा कि वे जेपी आंदोलन में भाग लेने के बाद वर्ष 1976 में अपने गांव लौट आए थे और उस आंदोलन को फैलाने की कोशिश की, लेकिन असफल रहे. इसके बाद 1983 में पांच एकड़ जमीन खरीदी और दो साल बाद 'मुक्ति निकेतन' की स्थापना की. 

उन्होंने कहा, "मैंने 18 राज्यों में जल संरक्षण पर जागरूकता फैलाने के लिए एक स्वयंसेवक के रूप में काम किया था. मैंने कटोरिया और भागलपुर जिले में पानी की कमी के मुद्दे को भी उठाया, लेकिन किसी ने समाधान नहीं दिया." 

उन्होंने बताया कि पहली बार साल 2008 में काउंसिल फॉर एडवांसमेंट ऑफ पीपुल्स एक्शन एंड रूरल टेक्नोलॉजी (कपार्ट) की ओर से पहली बार इस क्षेत्र में पानी के लिए मदद दी. कपार्ट एक नोडल एजेंसी है, जो ग्रामीण क्षेत्रों में सतत विकास के लिए स्वैच्छिक समूहों और सरकार के बीच मध्यस्थ का काम करती है. 

सिंह ने कहा, "उस समय शुरुआत में 30 पुराने जल निकायों को पुनजीर्वित करने, 20 कुओं और 35 फ्लिट सिंचाई मशीनों का निर्माण करने और 40 हैंडपंप स्थापित करने का बीड़ा उठाया था. इसके बाद नाबार्ड और अन्य संस्थानों द्वारा 30 तालाब, 25 चेकडैम और 10 लिट सिंचाई योजना का निर्माण कराया गया. इसके बाद तो सिलसिला चल पड़ा."

सिंह एक सड़क हादसे में पैरों में गंभीर चोट लगने से ज्यादा पैदल नहीं चल पाते, लेकिन उनकी मदद करने वाला एक दल उनके कामों को आगे बढ़ रहा है. 

सिंह कहते भी हैं कि उन्हें इस बात की ज्यादा खुशी है कि जिस काम को उन्होंने शुरू किया, उसे आज के किसान कई गांवों तक ले गए. 

इधर, एक अन्य किसान नरेश सिंह कहते हैं कि सिंह के इस पहल से 30 गांवों के लगभग 1,000 किसानों को सीधे फायदा हुआ है, जबकि 200 गांवों के कम से कम 10,000 किसानों ने अपनी जमीन पर पानी के लिए इस मॉडल को अपनाया है. वे कहते हैं कि आज गांव के किसान दो फसलें धान और गेहूं उपजा रहे हैं, जबकि गेहूं की खेती यहां के किसानों के लिए कभी सपने जैसे था.

किसान गंगेश्वर मांझी कहते हैं कि इन गांवों में 'मोबाइल लिट सिंचाई' का भी प्रयोग किया जा रहा है. जलस्रोतों से 'फोल्डर' पाइपों को जोड़कर 1,000 फीट तक खेतों में सिंचाई के लिए पानी पहुंचाया जा रहा है. इसका प्रयोग कथौन, कटोरिया, हरहड़, भिखुवासर, भैरोगंज, लालपुर और वर्नी की पंचायतों के किसान कर रहे हैं. 

बांका जिला प्रशासन भी अनिरुद्ध सिंह के इस प्रयास की प्रशंसा करता है. बांका के जिला कृषि पदाधिकारी सुदामा प्रसाद कहते हैं कि सरकार जल संरक्षण के उपाय कर रही है. कई योजनाएं हाल ही में शुरू हुई है. उन्होंने कहा सिंह का प्रयास लोगों के लिए उदाहरण है, इसके लाभ भी किसानों को मिल रहे हैं. प्रसाद कहते हैं कि प्रत्येक लोगों को जलसंरक्षण का प्रयास करना होगा.