सासाराम: किसानों ने अपनाया खेती करने का वैज्ञानिक तरीका, बदला सब्जियों का आकार

इतना ही नहीं साल में एक बार मकर संक्रान्ति (Makar Sankranti) के अवसर पर इस अद्भुत सब्जियों की एक प्रदर्शनी भी लगाई जाती है. जो अपनी तरह का एक अनूठा प्रयास है. 

सासाराम: किसानों ने अपनाया खेती करने का वैज्ञानिक तरीका, बदला सब्जियों का आकार
5 किलों के करीब होता है एक गोभी का वजन. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

सासाराम: बिहार के रोहतास जिला के सदर प्रखंड के छकोनवा गांव के किसान वैज्ञानिक तरीके से खेती करते हैं. जैविक खाद का उपयोग कर यहां के किसान अद्भुत तरीके से आकार में सामान्य से बहुत बड़ी-बड़ी सब्जियों का उत्पादन करते हैं.

इतना ही नहीं साल में एक बार मकर संक्रान्ति (Makar Sankranti) के अवसर पर इस अद्भुत सब्जियों की एक प्रदर्शनी भी लगाई जाती है. जो अपनी तरह का एक अनूठा प्रयास है. छकोनमा के किसानों द्वारा अद्भुत सब्जियों के लगाए गए इस प्रदर्शन को देखने दूर-दूर से लोग आते हैं.

किसानों के इस सब्जियों के आकार काफी वृहद होते हैं. किसानों द्वारा उगाई जाने वाली सब्जी का आकार- कद्दू 4 फीट, 2-3 फीट की मूली, 35 किलो का कोहरा, 5 किलो की गोभी, 5 किलो का बंद गोभी शामिल है. 

इसके साथ ही यहां के किसान छोटे-छोटे पौधे में बड़े-बड़े फूल की खेती भी करते हैं. सबसे बड़ी बात यह है कि किसान जैविक तरीके से उत्पादन करते हैं. इसमें कृषि वैज्ञानिकों की भी सलाह दी जाती है.