close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जामताड़ा: बाढ़ के साथ चीनी मिल ने किया किसानों को बेहाल, 150 एकड़ में फसल बरबाद

सिकरहना नदी के डाईवर्सन टूटने से लौरिया- नरकटियागंज मुख्य मार्ग, लौरिया- रामनगर मुख्य मार्ग पिछले एक सप्ताह से बाधित है. आलम यह है नदी के बांध टूटने से लोग रस्सियों के सहारे आर- पार हो रहे है. 

जामताड़ा: बाढ़ के साथ चीनी मिल ने किया किसानों को बेहाल, 150 एकड़ में फसल बरबाद
लौरिया में लोग बाढ़ और बरसात के साथ-साथ चीनी मील की भी मार झेल रहे हैं.(फाइल फोटो)

जामताड़ा: झारखंड के जामताड़ा के लौरिया में लोग बाढ़ और बरसात के साथ-साथ चीनी मील की भी मार झेल रहे है. हालात ये हैं कि सिकरहना नदी के डाईवर्सन टूटने से लौरिया- नरकटियागंज मुख्य मार्ग, लौरिया- रामनगर मुख्य मार्ग पिछले एक सप्ताह से बाधित है. आलम यह है नदी के बांध टूटने से लोग रस्सियों के सहारे आर- पार हो रहे है. 

बाईक को कांधे पर उठा पार कराया जा रहा है. महिलाओं- बच्चों को भी सहारे की जरूरत पड़ रही है. कभी भी यहां बड़ा हादसा हो सकता है. इसके बावजूद भी जिला प्रशासन ने लौरिया के बेहाल लोगो का हाल जानना मुनासिब नही समझा.

यही नहीं लौरिया के लोग बाढ़, बारिश की त्रासदी झेल ही रहे थे कि दोहरी मार लौरिया चीनी मील ने यहां के किसानों को दे दी है. बाढ़ की आड़ में लौरिया चीनी मील ने अपनी टेमा और रासायनिक प्रदूषित पानी को बाढ़ की पानी में छोड़ दिया है. जिससे लगभग लौरिया में ढेड़ सौ एकड़ फसलों को काफी नुकसान हुआ है. जिसमें गन्ना और धान की फसले प्रमुख है. किसानों का हाल बेहाल हो चुका है.

लौरिया अंचलाधिकारी संजय कुमार सिन्हा का कहना है कि विभाग को पत्र लिखा गया है. बहुत जल्द समस्या का समाधान हो जाएगा, वही किसान सलाहकार वीरेंद्र प्रसाद का कहना है कि सरकारी आदेश पर फसलों का नुकसान का जायजा लिया गया है जिसमें 150 एकड़ लौरिया चीनी मिल के टेमा व् प्रदूषित पानी से फसलों का नुकसान हुआ है. पानी प्रदूषित है और काला है.