close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: एक महीने बाद खुला मुंगेर का चंडिका स्थान, मां का दर्शन करने उमड़े श्रद्धालु

मंदिर के प्रधान पुजारी नंदन बाबा ने बताया है कि जिले में आई बाढ़ का पानी मंदिर में प्रवेश कर जाने के कारण करीब एक माह से मां चंडिका के मंदिर का पट बंद था.

बिहार: एक महीने बाद खुला मुंगेर का चंडिका स्थान, मां का दर्शन करने उमड़े श्रद्धालु
एक माह बाद चंडिका मंदिर का पट खुलते ही मां का दर्शन करने श्रद्धालु उमड़ पड़े.

मुंगेर: बिहार के मुंगेर में जिला मुख्यालय से चार किलोमीटर प्रसिद्ध चंडिका स्थान में करीब एक महीने बाद आखिरकार रौनक लौट आई है. बाढ़ के कारण चंडिका स्थान में जलजमाव होने के कारण मंदिर में पूजा-पाठ बंद हो गया था. करीब एक माह बाद चंडिका मंदिर का पट खुलते ही मां का दर्शन करने श्रद्धालु उमड़ पड़े.

भक्ति भाव से श्रद्धालुओं ने मां चंडिका की पूजा अर्चना शुरू कर दी है. मंदिर के प्रधान पुजारी नंदन बाबा ने बताया है कि जिले में आई बाढ़ का पानी मंदिर में प्रवेश कर जाने के कारण करीब एक माह से मां चंडिका के मंदिर का पट बंद था.

मंदिर बंद होने के कारण पिछले करीब एक माह से पूजा नहीं हो रही थी. पिछले 48 वर्षों में पहली बार ऐसा हुआ कि नवरात्र में मां के दर्शन से श्रद्धालु वंचित रह गए थे. अब एक माह बाद मां चंडिका के मंदिर का पट खुलने से हजारों की संख्या में श्रद्धालु मंदिर पहुंच रहे हैं और मां की पूजा गर्भ गृह में कर रहे हैं. उन्होंने कहा कहा मां की पूजा  भी अब शुरू हो गयी और शाम की आरती भी की जा रही है.
 
मालूम हो कि मुंगेर जिला मुख्यालय से चार किलोमीटर दूर गंगा के किनारे चंडिका स्थान स्थित है. मंदिर के पूर्व और पश्चिम में श्मशान होने के कारण इसे 'श्मशान चंडी' भी कहा जाता है. 

नवरात्र के दौरान कई साधक तंत्र सिद्धि के लिए यहां जमा होते हैं. मान्यता है कि यहीं पर माता सती की बाईं आंख गिरी थी. इसलिए आंखों के असाध्य रोग से पीड़ित लोग यहां पूजा करने आते हैं. साथ ही यहां से काजल लेकर जाते हैं. चंडिका स्थान को एक प्रसिद्ध शक्तिपीठ के रूप में जाना जाता है.