close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पटना: बाढ़ प्रभावितों को बड़ी राहत, बीमा क्लेम का एक महीने में होगा भुगतान

पटना के शहरी क्षेत्र में बाढ़ की तबाही झेल चुके राजधानी के लोगों के लिए राहत देने वाली खबर है. बाढ़ में गाड़ी-घरों की क्षति का बीमा राशि एक महीने के अंदर मिल जाएगा.

पटना: बाढ़ प्रभावितों को बड़ी राहत, बीमा क्लेम का एक महीने में होगा भुगतान
बाढ़ प्रभावित द्वारा क्लेम राशि का भुगतान बीमा कंपनियां 30 दिन में करेंगी. (फाइल फोटो)

पटना: पटना के शहरी क्षेत्र में बाढ़ की तबाही झेल चुके राजधानी के लोगों के लिए राहत देने वाली खबर है. बाढ़ में गाड़ी-घरों की क्षति का बीमा राशि एक महीने के अंदर मिल जाएगा.

प्रभावित लोगों को केरला और जम्मू-कश्मीर के तर्ज पर बीमा कंपनियां क्लेम का भुगतान करेंगी. इसको लेकर बिहार सरकार ने सोमवार को बीमा कंपनियों के साथ उच्च स्तरीय बैठक की.

बैठक में क्लेम निपटारे को तीस दिन के अंदर निपटाने का निर्देश दिया गया. इस बैठक में नेशनल इन्सुरेंस, रिलायंस, ओरिएंटल और एसबीआई जैसी बीमा कंपनियों ने शिरकत की. इस बैठक में आपदा प्रबंधन प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत भी मौजूद रहें.

आपको बता दें कि पटना का राजेंद्र नगर, कंकडबाग समेत अन्य इलाका कई दिनों तक भीषण पानी की चपेट में रहा है. इन इलाकों में सैकड़ों गाड़ियां और घर डूब गए. 

गाड़ी क्षति और घर में सामान नुकसान से जुड़े सैकड़ो क्लेम बीमा कंपनियों के पास पहुचें है. इन क्लेम को निपटारा करने के लिए राज्य सरकार आगे बढ़कर सामने आई. 

बाढ़ से परेशान हुए आम नागरिकों को बीमा कंपनी और सरकारी दफ्तरों के बींच चक्कर न लगाना पड़े, इसके लिए सरकार ने बीमा कंपनियों को कैंप लगाकर क्लेम का निपटारा करने को कहा है.

वित्त प्रधान सचिव एस सिद्धार्थ ने बताया है कि बिहार सरकार ने बीमा कंपनी से कहा है कि वे तीस दिनों के अंदर क्लेम को निपटारा करें. बीमा कंपनी कंकड़बाग, राजेन्द्र नगर समेत अन्य बाढ़ प्रभावित इलाके में कैंप लगा कर बीमा क्लेम निपटाए. 

उन्होंने कहा कि छठ के बाद कैंप लगेगा. सिद्धार्थ ने बताया है कि बिहार के शहरी क्षेत्र में हुए नुकसान के लिए केरला और जम्मू कश्मीर की तर्ज पर बीमाधारकों का क्लेम सेटल किया जाएगा. 

अधिकारी ने कहा कि सरकार ने तय किया है कि बीमा से संबंधित सभी दस्तावेज कंपनी को सीधा दिया जाएगा. गाड़ियों के रजिस्ट्रेशन, कैंसिलेशन या फिर अन्य दस्तावेज सरकार अपने लेवल से ही बीमा कंपनी को मुहैया कराएगी.