close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: विदेशी दंपत्ति ने लिया बच्ची को गोद, बेतिया DM ने तिलक लगाकर सौंपा

दंपत्ति बच्ची की चाहत में लक्जमबर्ग से बेतिया तक पहुंच गए. मार्टिन स्टोफेल और गाजला हेलेन ने कानूनी प्रक्रिया के तहत बच्ची को गोद लिया है. 

बिहार: विदेशी दंपत्ति ने लिया बच्ची को गोद, बेतिया DM ने तिलक लगाकर सौंपा
विदेशी दंपत्ति ने लिया बच्ची को गोद.

बेतिया : बिहार के बेतिया में सात समंदर पार से पहुंचे दंपत्ति ने बच्ची को गोद लिया है. जिला के डीएम ने तिलक लगाकर बच्ची को दंपत्ति को सौंपा. दंपत्ति बच्ची की चाहत में लक्जमबर्ग से बेतिया तक पहुंच गए. मार्टिन स्टोफेल और गाजला हेलेन ने कानूनी प्रक्रिया के तहत बच्ची को गोद लिया है. बेतिया डीएम डॉ. नीलेश रामचन्द्र देवड़े ने बच्ची को तिलक लगाकर दंपत्ति के गोद में सौंप दिया.

इस मौके पर खुशी से सभी के आंखों में आंसू आ गए. ज्ञात हो कि जिस दिन बच्ची का जन्मदिन था, उसी दिन उसे नई जिंदगी भी मिली. आज बच्ची के मम्मी डैडी मिल गए हैं. आज इन्होंने केक काटा है. अपने साथियों के बीच खुशियां मनाई है.

बच्ची के साथियों ने इस मौके पर गाना भी गाया. इस दौरान माहौल काभी भावुक हो गया था. शहर के बानू छापर स्थित विशिष्ठ दत्तक ग्रहण संस्थान की चर्चा पहली बार विश्व स्तर पर होने लगी. यहां रह रहे बेनाम कई मासूमों को विदेशी दंपत्तियों ने गोद लेने का निर्णय लिया है. इन बच्चों का अब अपना नाम होगा. अपने माता पिता होंगे. इनका अब अपना आशियाना होगा.

दिल्ली स्थित सेंट्रल एडॉप्शन रिसोर्स ऑथोरिटी इसकी औपचारिकता पूरी करने में लगा है. सभी तरह की कानूनी प्रक्रिया पूरी करने के बाद लक्जमबर्ग, अमेरिका, इटली, और स्पेन के दंपत्ति बेतिया से आकर बच्चों को गोद ले रहे हैं. उसी कड़ी में लक्जमबर्ग से दंपत्ति बेतिया पहुंचे. बेटी की चाहत में सात समंदर पार से आकर दंपत्तियों ने बेनाम बच्ची को गोद लेकर नया नाम दिया. दोनों काफी खुश हैं.

2018 से शुरू हुई विशिष्ट दत्तक ग्रहण संस्थान से अब तक छह बच्चों को गोद लिया जा चुका है. अभी 12 बच्चे हैं, जिसमे पांच का चयन विदेशी दंपत्ति कर चुके हैं. बेतिया डीएम ने बच्ची को तिलक लगाकर बच्ची को  दंपत्ति की गोद में दिया. इस दौरान उन्होंने निवेदन किया कि बच्ची के अब आप ही भविष्य हैं, इसे अच्छे से रखेंगे. इसकी अच्छी से देखभाल करेंगे. हम यही उम्मीद रखते हैं. यह सुनकर सभी के आंखों में आंसू आ गए.

लाइव टीवी देखें-: