close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: भागलपुर में घट रहा गंगा का जलस्तर, लेकिन कम नहीं हो रही लोगों की मुश्किलें

जिंदगी बचाने की जद्दोजहद में बढ़ पीड़ित पिछले पंद्रह दिनों से कुछ यू ही पेड़ की टहनियों और घर के छतों के सहारे जीवन की जंग लड़ रहे है.

बिहार: भागलपुर में घट रहा गंगा का जलस्तर, लेकिन कम नहीं हो रही लोगों की मुश्किलें
बाढ़ पीड़ित पेड़ों पर या फिर अपने छतो पर जिंदगी बचाने की लड़ाई लड़ रहे हैं.

भागलपुर: बिहार के भागलपुर में गंगा का जल स्तर धीरे धीरे कम हो रहा है लेकिन लोगों की मुश्किलें कम नहीं हो रही है. पानी घटने के बावजूद दियारा इलाके में एक पखवाड़ा से बाढ़ पीड़ित पेड़ों पर या फिर अपने छतों पर जिंदगी बचाने की लड़ाई लड़ रहे हैं. 

बाद प्रभावित क्षेत्रों में फंसे दियारा के बाढ़ पीड़ित जिंदगी बचाने की जद्दोजहद में पिछले पंद्रह दिनों से कुछ यू ही पेड़ की टहनियों और घर के छतों के सहारे जीवन की जंग लड़ रहे हैं. भूख-प्यास से तड़पने के बावजूद जिंदगी को बचाने की कवायद में जुटे हैं.  वहीं, एक बाढ़ पीड़ित महिला आंचल फैलाकर खाना मांगती नजर आई. 

 

तिनका -तिनका जड़े अपने आशियाना और संपति की मोहमाया में ये पीड़ित परिवार  अपना घर बार छोड़ना नहीं चाहते. संपत्तियों को बचाये रखने के लिए इस सैलाब में भी ये टिके हैं. ये भूमिहीन लोग हैं जो सरकारी जमीन पर आशियाना बनाये हुए है. 

इन्हें डर है कि कहीं यहां से जाने के बाद कोई इस जमीन को अपने कब्जे में न ले ले.  प्रशासन की टीम बार -बार पानी से बाहर निकलने के लिए इनसे गुहार लगायी , लेकिन  ये घर से नहीं निकले. भूख प्यास से तड़प रहे लोगो के लिए जी मिडिया की टीम ने राहत सामग्री भी उपलब्ध कराया. 

वहीं, साबौर के सीओ का कहना है की ये बाढ़ पीड़ित शिविर से खाना खाकर वापस यहां आकर रहने लगते है. और समझाने के वाबजूद यहां से नहीं निकलते हैं. बहरहाल अब देखना यह होगा की सरकार कब इन भूमिहिनो के लिए कोई स्थाई व्यवस्था करती है.