इस गांव में घुस भी नहीं सकता कोरोना! वजह जान आप भी हो जाएंगे हैरान

Gaya Corona News: ग्रामीणों ने पहल कर पूरे गांव को लॉक कर दिया है. साथ ही गांव के प्रवेश मार्ग पर पोस्टर लगाकर बाहरी लोगों को गांव मे आने से माना कर दिया है.  

इस गांव में घुस भी नहीं सकता कोरोना! वजह जान आप भी हो जाएंगे हैरान
इस गांव में घुस भी नहीं सकता कोरोना! (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Gaya: कोविड 19 का असर पूरे देश मे देखने को मिला रहा है. इस संक्रमण की चपेट से क्या आम क्या खास कोई भी अछूता नहीं है. गांव से लेकर शहर तक हर तरफ सिर्फ और सिर्फ कोरोना ही कोरोना हो रहा है. लोग इस बीमारी से कहरा रहे हैं. हर तरफ खौफ का मौहाल व्यप्त है. 

वहीं, इससे निजात पाने के लिए और बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए ग्रामीणों ने पहल कर पूरे गांव को लॉक कर दिया है. साथ ही गांव के प्रवेश मार्ग पर पोस्टर लगाकर बाहरी लोगों को गांव मे आने से माना कर दिया है.

दरसअल, ज्ञान की भूमि बोधगया में भी कोविड का खास असर देखने को मिला रहा है. इसको लेकर प्रखंड के बतसपुर गांव के ग्रामीणों ने कुछ ऐसा किया है कि जो समाज के लिए बहुत ही अच्छी बात है. इस गांव में घनी आबादी हैं जिसके चलते गांव के लोग कोरोना को लेकर पूरी तरह से सतर्क हो गए हैं. उन्होंने अपनी जान पहचान के सभी लोगों को किसी भी तरह के समारोह या ऐसे मिलने आने वाले संबंधी को गांव मे नहीं आने की सलाह दी है.

ये भी पढ़ें- Bihar में लगातार दूसरे दिन कोरोना मामलों में दर्ज की गई गिरावट, 11259 नए केस मिले

यहां युवाओं ने गांव के मुख्य मार्ग पर पोस्टर चिपका दिया है, ताकि जो भी गांव मे प्रवेश करना चाहे वो इसको पढ़कर अपने घर वापस लौट जाए और यहां रहने वाले लोग संक्रमण से बचे रहे. युवाओं ने पूरे गांव में सभी जगहों पर पोस्टर के माध्यम से लोगों को जागरूक किया है. ग्रामीण भी इसका पूरा समर्थन कर रहे हैं ताकि गांव के किसी भी घर का कोई भी सदस्य इस बीमारी की चपेट में नहीं आए.

समाजसेवी मनोरंजन कुमार ने बताया कि 'यह गांव बोधगया प्रखंड से 8 किलोमीटर की दूरी पर है. पिछले साल  यहां के लोग कोरोना की लहर से काफी प्रभावित हुए थे और इस साल तो बहुत ज्यादा प्रभावित हुए हैं. इसलिए हमलोगों ने युवाओं कि एक मंडली के द्वारा जागरूकता अभियान चलाया है. हम जगह-जगह पर पोस्टर के माध्यम से गांव में लोगों को जागरूक कर रहे हैं और लोगों से अपील कर रहे हैं कि मास्क पहनकर ही घर से बाहर निकले और बिना वजह के गांव मे प्रवेश ना करें.'

ये भी पढ़ें- जब बिहार के एक विधानसभा सीट पर मां-बेटे के बीच हुई चुनावी जंग, जानें क्या रहा था परिणाम

वहीं, गांव के स्थानीय ग्रामीणों ने बताया कि 'गांव पूरी तरह से सुरक्षित है. हमने अपने रिश्तेदारों से मना कर दिया है कि किसी भी तरह के आयोजन में आना जाना नहीं है. क्योंकि कोरोना महामारी को लेकर बहुत डर है इसलिए हम लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ख्याल रखा है. हम गांव में भी मस्त पहनकर रखते हैं और पूरी सावधानी से रहते हैं.'

स्थानीय शिक्षक शशि कुमार ने बताया कि 'गांव में कोरोना से हो रही मौतों को लेकर सबसे ज्यादा डर है और लोग इस संक्रमण का शिकार भी हो रहे हैं. इसलिए हमलोग गांव के लोगों को इस महामारी को लेकर जागरूक कर रहे हैं और सुझाव दे रहे हैं कि घर से बाहर जब भी निकले तो माक्स पहनकर निकले, सोशल डिस्टनसिंग का पालन करें. हमने गांव में पोस्टर चिपका दिए हैं कि कोरोना काल मे घर से बाहर नहीं निकले और बाहरी मेहमान को गांव मे नहीं आने दें ताकि संक्रमण से इस गांव को मुक्त कराया जा सके.'

ज्ञात हो कि पिछले वर्ष कोरोना का खौफ और कोरोना गांवों तक नहीं पहुंचा लेकिन इस बार गांव-गांव तक कोरोना से लोग संक्रमित हो रहे हैं. ग्रामीणों में भी खौफ देखा जा रहा है. लोग काफी सतर्क हैं. यहां ग्रामीणों में कोरोना का ऐसा खौफ है कि गांव के प्रवेशद्वार से लेकर जगह-जगह घरों पर भी मेहमानों को प्रवेश व बाहरी लोगों के प्रवेश पर पूर्ण रोक लगा रखी है.'

(इनपुट- जय प्रकाश कुमार)