close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

गिरिराज सिंह बोले- सबरीमाला पर तुरंत फैसला आ सकता है तो राम मंदिर पर क्यों नहीं?

बीजेपी नेता ने कहा कोर्ट को इस मुद्दे को तत्काल देखना चाहिए. कहीं ऐसा ना हो कि देरी करते-करते हिंदुओं का सब्र टूट जाए.

गिरिराज सिंह बोले- सबरीमाला पर तुरंत फैसला आ सकता है तो राम मंदिर पर क्यों नहीं?
राम मंदिर पर गिरिराज सिंह का बयान. (फाइल फोटो)

बेगूसराय : भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के फायरब्रांड नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा है कि राम मंदिर का निर्माण हमारी पार्टी के लिए चुनावी मुद्दा नहीं है. राम मंदिर अस्मिता की पहचान है. यह दुर्भाग्य की बात है कि 1952 में सरदार वल्लभ भाई पटेल की सलाह पर कांग्रेस पार्टी द्वारा काशी, मथुरा और अयोध्या में मंदिर नहीं बनाया गया. अगर उस समय मंदिर बना दिया गया होता तो आज यह विवाद रहता ही नहीं.

बेगूसराय में मीडिया से बात करते हुए गिरिराज सिंह ने कहा कि सबरीमाला पर तो सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला तुरंत सुना दिया, लेकिन राम मंदिर पर नहीं. उन्होंने कहा कोर्ट को इस मुद्दे को तत्काल देखना चाहिए. कहीं ऐसा ना हो कि देरी करते-करते हिंदुओं का सब्र टूट जाए.

एनआरसी विवाद: गिरिराज सिंह ने ममता बनर्जी के दिमागी संतुलन पर उठाया सवाल

गिरिराज सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी या बीजेपी के लिए राम अस्मिता का सवाल है. अयोध्या में राम मंदिर बने यह हमारी प्रतिबद्धता है, जुमला नहीं. हमको इसके लिए किसी के सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है. उन्होंने कहा कि यह बिल्कुल सत्य है कि राम मंदिर अयोध्या में बनेगा और भारत के लोगों के अनुरूप बनेगा.

उन्होंने कहा कि केरल की वामपंथी सरकार किम जोंग उन जैसे तानाशाह की भूमिका में है. संघ परिवार इसका विरोध करता रहेगा. चाहे इसके लिए जो भी कुर्बानी देनी पड़े. गिरिराज सिंह ने कहा कि कांग्रेस से न तो कभी तालमेल हुआ है और ना ही होगा.