गोपालगंज: JDU जिलाध्यक्ष पर 2 हजार रुपए की रंगदारी मांगने का आरोप, ऑडियो क्लिप वायरल

वायरल ऑडियो में मांझागढ़ टैक्सी स्टैंड के संवेदक से पहले ट्रकों से अवैध वसूली की शिकायत की जा रही है. फिर संवेदक से एक हजार रुपये की मांग की जा रही है. 

गोपालगंज: JDU जिलाध्यक्ष पर 2 हजार रुपए की रंगदारी मांगने का आरोप, ऑडियो क्लिप वायरल
JDU जिलाध्यक्ष पर लगा रंगदारी मांगने का आरोप.

गोपालगंज: बिहार के गोपालगंज में सत्तारूढ़ पार्टी जनता दल यूनाइटेड (JDU) के जिलाध्यक्ष का एक ऑडियो वायरल हो रहा है. इसमें वे टैक्सी स्टैंड संवेदक से दो हजार रुपये प्रति महीने देने की मांग कर रहे हैं. इस ऑडियो में जिलाध्यक्ष के द्वारा पार्टी कार्यालय चलाने के लिए पैसे की मांग की जा रही है. हांलाकि पार्टी जिलाध्यक्ष प्रमोद कुमार पटेल ने ऐसे किसी पैसे की डिमांड से इंकार किया है. उनके मुताबिक यह फर्जी ऑडियो है. उन्हें बदनाम करने की साजिश के तहत इसे वायरल किया जा रहा है.

वायरल ऑडियो में मांझागढ़ टैक्सी स्टैंड के संवेदक से पहले ट्रकों से अवैध वसूली की शिकायत की जा रही है. फिर संवेदक से एक हजार रुपये की मांग की जा रही है. जब संवेदक पैसे देने के तैयार हो गया, तब दो हजार रुपये पार्टी कार्यालय चलाने के नाम पर मांगा जा रहा है.

ऑडियो टैक्सी स्टैंड के ठेकेदार देवेन्द्र दूबे से बातचीत का है. ठेकेदार देवेन्द्र दूबे का दावा है कि जेडीयू जिलाध्यक्ष प्रमोद कुमार पटेल ने उनसे रंगदारी के तहत पैसों की मांग की है. उन्होंने कहा कि जिला परिषद के जेई कन्हैया कुमार के द्वारा उन्हें इस टैक्सी स्टैंड से पैसे की वसूली का ठेका दिया गया है. इस ठेके से वह किसी तरह अपने परिवार को चलाने भर पैसा इकठ्ठा कर लेते हैं.

उन्होंने आरोप लगाया कि अब जिलाध्यक्ष प्रमोद कुमार पटेल ने उनसे फोन कर दो हजार रूपये की रंगदारी की मांग की है. यह सरासर गलत है. दोनों के बीच तकरीबन करीब सात मिनट 48 सेकेंड के ऑडियो क्लिप है.

ऑडियो क्लिप में दूसरी तरफ से कहा जा रहा है कि उन्हें 14 तारीख को किसी केस के सिलसिले में सोनपुर जाना है. इसलिए दो हजार रुपये महीने की पहला किस्त आज ही दे दी जाए. यह ऑडियो क्लिप गोपालगंज में सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रहा है. व्हाट्सऐप और फेसबुक पर इसे खूब शेयर किया जा रहा है.

जेडीयू जिलाध्यक्ष प्रमोद कुमार पटेल ने इसे बदनाम करने की साजिश बताया. उनका दावा है कि उनके द्वारा किसी ठेकेदार से कोई बात नहीं की गई है. अभी तक वे ऐसे किसी ऑडियो को नहीं सुने हैं, जिसमे उनके द्वारा पैसे की मांग करने का दावा किया जा रहा है. प्रमोद कुमार पटेल ने कहा कि टैक्सी स्टैंड अवैध तरीके से संचालित होता है, जिसको लेकर डीडीसी से लेकर सम्बंधित विभाग के पदाधिकारियों से शिकायत कर चुके हैं. इसलिए उन्हें बदनाम करने के लिए यह फर्जी ऑडियो वायरल किया जा रहा है. उन्होंने जांच की मांग की है.