सरकार दे रही जैविक खेती को बढ़ावा, किसानों के बीच किया अमृत जीवा कीट का वितरण

जिस तरह से रासायनिक खाद के प्रयोग कर खेती और पर्यावरण को नुकसान हो रहा है. उससे कहीं न कहीं स्‍वास्‍थ्‍य पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है. इससे बचने के लिए किसानों को अब पारंपरिक खेती करने के लिए अधिक से अधिक जैविक खेती करने की जरूरत है.

सरकार दे रही जैविक खेती को बढ़ावा, किसानों के बीच किया अमृत जीवा कीट का वितरण
झारखंड में किसानों के बीच किया गया अमृत जीवा का वितरण.

रांची: जैविक खाद को बढ़ावा देने के उद्देश्‍य से आज खूंटी के सोसो टोली गांव में 37 किसानों को अमृ‍त जीवा बनाने संबंधित उपकरण का वितरण किया गया. कृषि विभाग सिंगल विंडो खूंटी बिशुनपुर के द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में सदस्‍य अनुज कुमार ने किसानों को 20 सूत्री जैविक खाद बनाने संबंधित बातों की भी जानकारी दी गई. 

उन्‍होंने बताया कि आज के दौर में जिस तरह से रासायनिक खाद के प्रयोग कर खेती और पर्यावरण को नुकसान हो रहा है. उससे कहीं न कहीं स्‍वास्‍थ्‍य पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है. इससे बचने के लिए किसानों को अब पारंपरिक खेती करने के लिए अधिक से अधिक जैविक खेती करने की जरूरत है.

स्थानीय लोगों ने कहा कि एक बाल्टी जरकिन और ड्रम समेत अन्य चीजें मिली हैं. इसका उपयोग कर हम जैव-अमृत बनाएंगे ताकि अधिक से अधिक उपज हो सके. बिशुनपुर के सिंगल विंडो द्वारा सोसो टोली पंचायत तिरला खूंटी में आज 37 किसानों के बीच जैव-अमृत किट का वितरण किया गया. इससे किसानों को लाभ होगा, उनकी उपज बढ़ेगी.

गाय का गोबर और उसके मूत्र सभी सर्वसुलभ होती है. कमोबेश हर किसानों के घरों में ही मिल जाता है. सिर्फ बेहतर तरीके से इस जैविक खाद को अपने खेतों में डालने की जरूरत है. विभाग द्वारा मिले इस उपकरण से खाद आसानी से बन जाएगा.