प्रदर्शनी में बोले राज्यपाल, देश के बढ़ते विकास दर में कृषि क्षेत्र का है बड़ा योगदान

उन्होंन कहा कि इस प्रदर्शनी के जरिए किसानों को नई दिशा मिलेगी. ऐसे प्रदर्शन आगे भी जारी रहेंगे. यहीं नहीं उन्होंने यह भी कहा कि देश की आर्थिक और सामाजिक प्रगति कृषि पर निर्भर करती है. कुल निर्यात में 16 फीसदी कृषि का हिस्सा है. ग्रामीण क्षेत्रो में कृषि योग्य भूमि कम होने से रोजगार में कमी आ रही है.

प्रदर्शनी में बोले राज्यपाल, देश के बढ़ते विकास दर में कृषि क्षेत्र का है बड़ा योगदान
उद्यान प्रदर्शनी के मौके पर बोले राज्यपाल फागु चौहान- देश के विकास दर में कृषि की अहम भूमिका.

पटना: बिहार की राजधानी में उद्यान प्रदर्शनी का आयोजन किया गया जिसमें प्रदेश के विभिन्न सब्जियों, फूल, पौधे की प्रदर्शनी की गई. इस दौरान कार्यक्रम का शुभारंभ करते हुए राज्यपाल फागु चौहान ने कहा कि देश के बढ़ते विकास दर में कृषि का बहुत बड़ा योगदान है. कृषि विवि के सहयोग से किसानों को लाभ मिल रहा है. 

उन्होंन कहा कि इस प्रदर्शनी के जरिए किसानों को नई दिशा मिलेगी. ऐसे प्रदर्शन आगे भी जारी रहेंगे. यहीं नहीं उन्होंने यह भी कहा कि देश की आर्थिक और सामाजिक प्रगति कृषि पर निर्भर करती है. कुल निर्यात में 16 फीसदी कृषि का हिस्सा है. ग्रामीण क्षेत्रो में कृषि योग्य भूमि कम होने से रोजगार में कमी आ रही है.

राज्यपाल ने कहा कि किसानों को बकरी पालन, गौ-पालन, मधुमखी पालन से दोगुनी आय मिल पा रहा है. जैविक खाद का प्रयोग जरूरी हो गया है. किसानों की उत्पादक क्षमता बढ़ाने के लिए मिट्टी की जांच करवाई जा रही है. इसके अलावा इस मौके पर बिहार सरकार में कृषि मंत्री प्रेम कुमार भी मौजूद थे. 

इस मौके पर कृषि मंत्री ने कहा कि बागवानी फसलों की गुणवत्ता ठीक करने के साथ उत्पादन को बढ़ाना है. कम प्रचलित सब्जियों के महत्व और छत पर सब्जियों को उगाना है. औषधीय पौधों के बारे जानकारी देना है.
फसल उत्पादन बढ़ाने से किसानों को लाभ नहीं मिलने वाला बल्कि इसके साथ फल, फूल की खेती करना होगा.

इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि अब फसल चक्र बदल रहा है. इसके लिए माइक्रो एग्रीकल्चर औजारों पर 90 फीसदी तक की सब्सिडी दी जा रही है. देश में बिहार को पहले स्थान पर लाने के लिए राज्य सरकार हर दिन नए प्रयोग कर रही है. जैविक खेती का बढ़ावा दिया जा रहा है और राज्य के सब्जी उत्पादकों को जागरूक किया जा रहा है. 

इस प्रदर्शनी से कृषि जगत को काफी फायदा पहुंचने की उम्मीद है.