राज्यसभा के लिए चुने गए हरिवंश बोले- बिहार की राजनीतिक स्थिरता देश के लिए मिसाल

हरिवंश ने जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार का अभार जताया और कहा कि देश के अन्य राज्यों को बिहार से सीखने की जरूरत है. बिहार में जिस तरह की राजनीतिक स्थिरता है, वो मिसाल है.

राज्यसभा के लिए चुने गए हरिवंश बोले- बिहार की राजनीतिक स्थिरता देश के लिए मिसाल
राज्यसभा की पांच सीटों के लिए बिना किसी प्रतिस्पर्धा के चुनाव हो गया.

पटना: राज्यसभा के लिए दूसरी बार चुने गये हरिवंश ने जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार का अभार जताया और कहा कि देश के अन्य राज्यों को बिहार से सीखने की जरूरत है. बिहार में जिस तरह की राजनीतिक स्थिरता है, वो मिसाल है. राज्यसभा की पांच सीटों के लिए बिना किसी प्रतिस्पर्धा के चुनाव हो गया. सभी सदस्य निर्विरोध चुनाव जीते. ये बिहार की परिपक्व राजनीति को दर्शाता है. ये सब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व और बेहतर सोच का नतीजा है.

राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश 2014 में पहली बार राज्यसभा गए थे, तब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जेडीयू के कोटे से उन्हें राज्यसभा भेजा था. उससे पहले हरिवंश पत्रकार के रूप में काम कर रहे थे. हरिवंश ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के विजन की तारीफ की और कहा कि सात निश्चय और जल जीवन हरियाली जैसे अभियान बिहार को बदलने वाले हैं. बिहार में जिस तरह का विकास हुआ है. उसके बारे में 2005 से पहले कौन सोच सकता है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के विजन की वजह से बिहार में बड़े पैमाने में इंस्टीट्यूट का निर्माण हुआ है. बड़े संस्थान खुले हैं, जो बिहार की सूरत को बदल रहे हैं.

साथ ही उन्होंने कहा कि वो अपने जिम्मेदारियों को बेहतर तरीके से निर्वहन करने की कोशिश करेंगे. वहीं, जेडीयू कोटे से जीते दूसरे सदस्य रामनाथ ठाकुर ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के 15 सालों में किये गये कामों को याद किया और कहा कि 2020 में भी पूर्ण बहुमत से बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में सरकार बनेगी.

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बेहतर काम कोई नहीं कर सकता. जीत का प्रमाण पत्र लेने के बाद रामनाथ ठाकुर ने विधानसभा परिसर में लगी अपने पिता कर्पूरी ठाकुर की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया और अपनी कामयाबी का श्रेय पिता कर्पूरी ठाकुर के दिखाये रास्ते को दिया.

वहीं, बीजेपी कोटे से चुने गए विवेक ठाकुर ने कहा कि हमारे ऊपर हमारे नेताओं ने जो विश्वास जताया है, हम उस पर खरा उतरेंगे. जीत का प्रमाण पत्र लेने के बाद विवेक ठाकुर ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक अणे मार्ग जाकर मुलाकात की. इसके बाद डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी से मिलने पहुंचे.