close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार:17 साल के हर्षिल ने बनाया 'स्मार्ट टी-शर्ट', देगी हेल्थ की पूरी जानकारी

 हर्षिल आनंद और उनके तीन साथियों ने एक ऐसी टी-शर्ट बनाई है जो लाखों लोगों के लिए वरदान साबित हो सकता है. 

बिहार:17 साल के हर्षिल ने बनाया 'स्मार्ट टी-शर्ट', देगी हेल्थ की पूरी जानकारी
बुर्जुर्गों के लिए ये टीशर्ट फायदेमंद होगी जो खासकर अपने बच्चों से दूर रहते हैं.

पटना: बिहार के पटना के हर्षिल आनंद और उनके तीन साथियों ने एक ऐसी टी-शर्ट बनाई है जो लाखों लोगों के लिए वरदान साबित हो सकता है. खासकर वैसे बुर्जुर्गों के लिए ये टी-शर्ट फायदेमंद होगी जो अपने बच्चों से दूर रहते हैं.

पटना के आशियाना में रहने वाले हर्षिल आनंद की उम्र महज 17 साल है लेकिन उनके सपने बड़े हैं. सपने ऐसे कि ये लाखों लोगों के लिए वरदान साबित हो सकती है. दरअसल हर्षिल आनंद और उनके तीन दोस्तों  ने एक खास किस्म की टी-शर्ट बनाई है जिसे नाम दिया गया है स्मार्टी स्मार्टी . इसे खासकर बुजुर्गों के लिए डिजाइन किया गया है . हर्षिल के मुताबिक, जो बच्चे घर से दूर रहते हैं और वो अपने मां-पिता का नियमति हेल्थ चेकअप नहीं करा सकते हैं. वैसे लोग इस टी-शर्ट के माध्यम से स्वास्थ्य की जानकारी ले पाएंगे.

 

हर्षिल के मुताबिक, स्मार्टी टी-शर्ट में एक चिप लगी है जो सारे डेटा को क्लाउड सर्वर के जरिए हर पांच सेकेंड में अपलोड करती है. ये स्मार्टी टी शर्ट शरीर में ब्लड प्रेशर, स्ट्रेस लेवल, ईसीजी, धड़कन और हार्ट बीट के डाटा को कलेक्ट करती है. इसके साथ ही इस टी-शर्ट में एक पेनिक बटन है जो आपात स्थिति में एप इस्तेमाल कर रहे शख्स को फोन पर सूचना भेज देगी.

 मरीज के संबंधियों को इस बात की जानकारी मोबाइल एप के माध्यम से  मिल जाएगा कि ब्लड प्रेशर क्या है, स्ट्रेस लेवल क्या है और प्लस रेट क्या है.दूसरे शब्दों में कहें तो सगे संबंधियों को आॉनलाइन ही अपने लोगों की जानकारी कभी भी और कहीं भी केवल स्मार्टी टी शर्ट के जरिए मिल जाया करेगी.

हर्षिल की मानें तो अगले कुछ महीने में उसे स्मार्टी टी शर्ट का पेटेंट भी मिल जाएगा और फिर बड़े स्तर पर वो इसका कारोबार शुरू करेंगे. हालांकि ये टी-शर्ट उसी वक्त काम करेगा जब मरीज ने इसे पहन रखा हो. हर्षिल के साथ ही उसके तीन दोस्त राजस्थान के रोहित दयानी, नालंदा के रंजन और झारखंड के त्रिशित प्रमाणिक हैं. फिलहाल इनका एक स्टार्टअप भी काम कर रहा है जिसे नाम दिया गया है वीक्यूब है.

हर्षिल इंटर में साइंस के छात्र हैं और साल 2017 में आपदा प्रबंधन के दौरान इस्तेमाल किए जाने वाले ड्रोन को लेकर पुरूस्कार भी मिल चुका है. यकीनन स्मार्टी टी शर्ट एक तरह से अनूठा प्रयोग है और ये प्रयोग सफल हो जाने के बाद लाखों लोग के लिए एक वरदान साबित होगी जो हर वक्त अपने मां-पिता की सेहत की चिंता में रहते हैं.