लॉ एंड ऑर्डर पर हाईलेवल मीटिंग, कांग्रेस बोली- बिहार की स्थिति भयावह

कानून व्यवस्था को लेकर बुलाई गई इस बैठक को लेकर राजनीति भी तेज हो गई है. कांग्रेस ने इसे सामान्य प्रक्रिया बताते हुए बिहार की स्थिति को भयावह बताया. 

लॉ एंड ऑर्डर पर हाईलेवल मीटिंग, कांग्रेस बोली- बिहार की स्थिति भयावह
बिहार की कानून व्यवस्था पर सियासत तेज... (फाइल फोटो)

पटना : बिहार के मुख्य सचिव दीपक कुमार आज राज्य की कानून व्यवस्था पर समीक्षा बैठक करेंगे. इस बैठक में राज्य के गृह सचिव, प्रधान सचिव, डीजीपी, एडीजी सहित कई अधिकारी मौजूद होंगे. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सभी जिलों के डीएम, एसपी और डीआईजी भी इस समीक्षा बैठक में शामिल होंगे और रिपोर्ट सौंपेंगे. ज्ञात हो कि हाल के दिनों में ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी राज्य की कानून व्यवस्था को लेकर घंटों बैठक की थी और अधिकारियों को हर हाल में स्थिति में सुधार लाने के निर्देश दिए थे.

कानून व्यवस्था को लेकर बुलाई गई इस बैठक को लेकर राजनीति भी तेज हो गई है. कांग्रेस ने इसे सामान्य प्रक्रिया बताते हुए बिहार की स्थिति को भयावह बताया. वहीं. सत्तारूढ़ जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) ने कांग्रेस को अपनी गिरेवां में झांकने की नसीहत दी है.

कांग्रेस विधान पार्षद और पार्टी प्रवक्ता प्रेमचंद्र मिश्र ने कहा कि आज प्रतिदिन हत्याएं हो रही हैं. सरकार मुआवजा देकर मामले को टालने में लगी है. कांग्रेस नेता ने कहा कि अपराध नियंत्रण पर सरकार का कंट्रोल खत्म हो गया है. इसके लिए कठोर कदम उठाने की आवश्यक्ता है. उन्होंने बिहार की स्थिति को भयावह बताते हुए कहा कि दोषियों पर आरोप तय हो.

कांग्रेस के आरोप पर जेडीयू नेता श्याम रजक ने पलटवार करते हुए कहा कि विधि व्यवस्था मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की यूएसपी है. 1974 के बाद जिसकी औकात खत्म हो गई वो क्या बोलेंगे. उन्होंने कांग्रेस को गिरेवां में झांकने की नसीहत दी है. साथ ही कहा कि रात 12 बजे भी पटना में लड़कियां स्कूटी चलाती दिख रही हैं, अपराधियों का जगह सलाखों के पीछे है.