मुंगेर: अपराधी होने के गलतफहमी में मारा गया होमगार्ड का जवान, गोलीबारी की हो रही जांच

 उन्होंने कहा कि मृतक होमगार्ड का जवान शांत स्वभाव का था. कल उसके परिवार के सदस्य उससे मिलने के लिए थाने आये थे और दोनों में क्या बात हुई मुझे मालूम नहीं है.

मुंगेर: अपराधी होने के गलतफहमी में मारा गया होमगार्ड का जवान, गोलीबारी की हो रही जांच
मुंगेर: अपराधी होने के गलतफहमी में मारा गया होमगार्ड का जवान, गोलीबारी की हो रही जांच.

प्रशांत कुमार/मुंगेर: बिहार के मुंगेर में बीती रात एक होमगार्ड का जवान गलतफहमी के कारण मारा गया. बीती देर रात अपने सर्विस राइफल से मानसिक रूप से कमजोर होमगार्ड का जवान बरियारपुर थाना परिसर के शौचालय के पास से गोली चला रहा था. उग्रवादियों द्वारा थाने में रूक-रूक कर गोली की आवाज सुनकर थाने में सोये हुए जवान जग गए और जवानों ने भी मोर्चा संभाला और फायरिंग शुरू कर दी. 

वही दोनों तरफ से जमकर गोली चली. इस मुठभेड़ में होमगार्ड का जवान मारा गया. घटनास्थल में गोली के 43 निशान मिले. एसपी ने कहा कि इस मुठभेड़ में 43 राउंड गोली चली. दस राउंड गोली होमगार्ड के जवानों ने चलाई. घटना की जानकरी मिलते ही डीआईजी एसपी सहित कई पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे. 

वही थाने में गोली की आवाज सुनकर थाने में तैनात पुलिस जवान व पदाधिकारी अचंभित हो गए कि आखिर गोलीबारी कहां से हो रही है. वही बार-बार थाने में हो रही फायरिंग की आवाज सुनकर थानध्यक्ष ने एसपी मानव जीत सिंह ढिल्लों को सूचना दी कि थाने में कुछ उग्रवादी घुस गए और फायरिंग पर फायरिंग करने लगे.

इसी सूचना के आधार पर एसपी सहित आधा दर्जन थाना की पुलिस बरियारपुर थाना पहुंची और थाने को चारों तरफ से हथियार से लैस पुलिस जवानों के साथ घेर लिया. वही अंधरे होने के कारण थाने में ये पता नहीं चल रहा था गि आखिर गोली किस तरफ से चल रही है. वही जब एसपी ने लाइटिंग के माध्यम से देखा गया की थानध्यक्ष के आवास के सामने बने शौचालय से गोली की आवाज आ रही है. 

इस दौरान पुलिस की एक गोली का शिकार हो गया जहां घटनास्थल पर उसकी मौत हो गयी. मौत के बाद जब पुलिस द्वारा अपराधी का शिनाख्त की गयी तो पता चला की वो इसी थाने के होमगार्ड जवान मो जाहिद है, जो चार दिन पूर्व बरियारपुर थाना में ड्यूटी करने आया था. वो उसकी ड्यूटी गिरफ्तार कैदी को कोर्ट पहुंचाने के लिए लगा था और कल भी अपने साथी के साथ कैदी को लेकर कोर्ट आया था और वो स्वस्थ था. 

वही मृतक होमगार्ड की पत्नी व पुत्र ने बताया कि पेट में गैस का दर्द था, जिसको लेकर कल थाना आया था और थाना के बड़ा बाबू से छुट्ठी की मांग की. दो दिन के लिए हमारे पति को छुट्ठी दीजिये जिसके बाद डॉक्टर से दिखा कर उन्हें पहुंचा देंगे, लेकिन उन्होंने छुट्टी नहीं दी और कहा कि सस्पेंड कर देंगे.  उन्होंने कहा की रात में थाना से कॉल आया कि आपके परिवार वाले खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर लिए है.

थाना में तैनात चौकीदार ने बताया कि मृतक होमगार्ड के जवान का ड्यूटी कैदी को जेल पहुंचाने में लगा था. कल भी हमारे साथ कोर्ट में आया था और शाम में हमारे साथ थाना गया था. उन्होंने कहा कि मृतक होमगार्ड का जवान शांत स्वभाव का था. कल उसके परिवार के सदस्य उससे मिलने के लिए थाने आये थे और दोनों में क्या बात हुई मुझे मालूम नहीं है.
 
वही एसपी मानव जीत सिंह ढिल्लों ने बताया की घटना की जानकारी बताते हुए कहा कि जब मुझे बरियारपुर थानाध्यक्ष ने 12 बजे रात में जानकरी दी तब में थाने पहुंचे और चारों तरफ से थाने का पुलिस जवानों के सहयोग से घेराव किया. इसके बाद जब पता चला कि थाना परिसर में अवस्थित शौचालय से एक व्यक्ति की ओर से गोली चला रही है. 

जब वो डेढ़ बजे वो शौचालय से बाहर निकल कर पुलिस वेरेज की ओर फायरिंग की तो पुलिस ने उसके जबाब में फायरिंग शुरू कर दी. इसके बाद घटनास्थल पर उसकी मौत हो गई. वही जब उसकी पहचान हुई तो वो थाना का होमगार्ड का जवान निकला. उन्होंने कहा कि होमगार्ड जवान को सरकार द्वारा 50 राउंड कारतूस दी जाती है जिसमें उन्होंने 10 राउंड फायरिंग की और बाकी की कारतूस को पुलिस ने जब्त कर लिया.

उन्होंने कहा की होमगार्ड को पुलिस की कितनी गोली लगी है उसकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही खुलासा हो पाएगा कि गोली उनके शरीर में कितनी लगी है. उन्होंने कहा मृतक होमगार्ड मानिसक तनाव में था और दो तीन दिन से चल रहा था और कल खाना खा कर बीती रात अपने बैरक में सोने चला गया था. 

उन्होंने कहा कि मामला राष्टीय मानवाधिकार आयोग का है. इसलिए एफएसल का टीम मोके पर पहुंचकर मामले की छानबीन की जा रही है. मृतक होमगार्ड की की निष्पक्ष जांच के लिए मजिस्टेट्र इन्क्वारी कराने के लिए जिलाधिकारी से अनुरोध किया है क्योंकि ये पुलिस मुठभेड़ का मामला है. 

उन्होंने कहा इस मामले में मृतक होमगार्ड में आपराधिक मामला बरियापुर थानध्यक्ष द्वारा दर्ज किया जाएगा. उन्होंने कहा कि हमोगार्ड के जवान को किसी प्रकार का सरकारी लाभ नहीं दिया जाएगा.