रांची: सरयू राय को टिकट में नहीं है रूचि, कहा- शीर्ष नेताओं को असमंजस में नहीं चाहता रखना

उन्होंने शायराना अंदाज में कहा, 'हजारों गम हैं इस दुनिया में, राजनीति के सिवा'. राजनीति के अलावा भी सामाजिक काम करता हूं. राजनीति में भ्रष्टाचार करने वालों पर नजर रखता हूं.'

रांची: सरयू राय को टिकट में नहीं है रूचि, कहा- शीर्ष नेताओं को असमंजस में नहीं चाहता रखना
सरयू राय झारखंड सरकार में मंत्री हैं. (फाइल फोटो)

रांची: झारखंड में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के वरिष्ठ नेता और रघुवर दास (Raghubar Das) सरकार में मंत्री सरयू राय ने शनिवार को बीजेपी के टिकट की दौड़ से खुद को अलग कर लिया. उन्होंने कहा कि वह केंद्रीय नेताओं को असमंजस में नहीं रखना चाहते, इसलिए खुद को टिकट की दौड़ से अलग कर लिया है. 

उन्होंने कहा कि अब उन्हें टिकट में रुचि नहीं है. झारखंड विधानसभा सीटों के लिए भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने शनिवार को प्रत्याशियों की चौथी सूची जारी की है, जिसमें सरयू राय का नाम नहीं है. बीजेपी अब तक 71 प्रत्याशियों की सूची जारी कर चुकी है.

ईमानदार छवि के नेता के रूप में पहचान बना चुके सरयू राय ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि उनका चुनाव लड़ना या नहीं लड़ना कोई मायने नहीं रखता. उन्होंने शायराना अंदाज में कहा, 'हजारों गम हैं इस दुनिया में, राजनीति के सिवा'. राजनीति के अलावा भी सामाजिक काम करता हूं. राजनीति में भ्रष्टाचार करने वालों पर नजर रखता हूं.'

मंत्री ने कहा कि वह नहीं चाहते कि कोई और मुख्यमंत्री जेल जाए. उनका इशारा शायद लालू प्रसाद (Lalu Prasad Yadav) और मधु कोड़ा (Madhu Koda) की ओर था. उन्होंने खुद को बीजेपी का बताते हुए कहा कि वह राजनीति से अलग नहीं हैं. रविवार को वह कार्यकर्ताओं से विचार कर आगे की रणनीति तय करेंगे. उन्होंने कहा, 'कार्यकर्ता जैसे कहेंगे वैसा करूंगा.'

राय ने कहा, 'मैं पार्टी नेतृत्व को असमंजस में नहीं रखना चाहता. देश में कई और काम हैं, केवल एक सीट के लिए इतना विचार करना उचित नहीं है. यही कारण है कि मैंने खुद को टिकट से अलग कर लिया है. पार्टी जिसे अच्छा समझे, उसे जमशेदपुर (पश्चिम) से टिकट दे.' बता दें कि सरयू राय जमशेदपुर (पश्चिम) से विधायक हैं.