किशनगंज: रजिस्ट्रेशन फॉर्म के नाम पर इंटर के छात्रों से अवैध वसूली का खुलासा

रजिस्ट्रेशन फॉर्म की कीमत स्कूल प्रशासन ने दस रुपये तय किया है. क्योंकि उसमें स्कूल की मुहर लगी है. स्कूल का फरमान है कि बगैर मुहर वाले फॉर्म को स्वीकार नहीं किया जायेगा.

किशनगंज: रजिस्ट्रेशन फॉर्म के नाम पर इंटर के छात्रों से अवैध वसूली का खुलासा
रजिस्ट्रेशन फॉर्म के नाम पर फर्जीवाड़ा.

किशनगंज: बिहार के किशनगंज के डुमरिया मोहल्ला स्थित प्लस टू बालिका उच्च विद्यालय में ग्यारहवीं कक्षा में पढ़ाई कर रहे गरीब परिवार के छात्राओं से इन दिनों रजिस्ट्रेशन फॉर्म और रजिस्ट्रेशन शुल्क के नाम स्कूल प्रशासन द्वारा अवैध वसूली की जा रही है. स्कूल के छात्राओं को मुफ्त में मिलने वाले फॉर्म पर स्कूल प्रशासन ने फरमान जारी कर दिया है. 

रजिस्ट्रेशन फॉर्म की कीमत स्कूल प्रशासन ने दस रुपये तय किया है. क्योंकि उसमें स्कूल की मुहर लगी है. स्कूल का फरमान है कि बगैर मुहर वाले फॉर्म को स्वीकार नहीं किया जायेगा.

बिहार सरकार ने छात्राओं से अवैध राशि वसूली को रोकने के लिए रसीद की भी व्यवस्था की है, लेकिन इस स्कूल में बिना रसीद ही फॉर्म दिए जा रहे हैं. रजिस्ट्रेशन के नाम पर अवैध वसूली कर रहे हैं. इतना ही नहीं बिहार सरकार की तरफ से रजिस्ट्रेशन फॉर्म ऑनलाइन भरने के खर्च के लिए स्कूल प्रशासन को विद्यालय कोष से खर्च करने का दिशानिर्देश भी पत्र के माध्यम से दिया जाता है. बावजूद स्कूल प्रशासन द्वारा छात्राओं से मनमाने ढंग से अवैध शुल्क की वसूली की जा रही है.

बताते चलें कि बिहार बोर्ड ने 2021 में इंटर की परीक्षा में शामिल होने वाले छात्राओं के लिए रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया 13 नवंबर से 30 नवंबर तक का समय निर्धारित किया है, जिसमें 11वीं कक्षा में बिहार बोर्ड ने 370 रुपये और स्वतंत्र कोटि के विद्यार्थियों को कुल 520 रुपये शुल्क देने के लिए निधारित किया है. लेकिन छात्रों से मनमाने तरीके से अवैध पैसे की वसूली की जा रही है. हर छात्रों से 30 से 50 रुपए अवैध तरीके से लिए जा रहे हैं.