रोहतास में चल रहा अवैध बालू डंपिंग का बड़ा खेल, सरकार को हो रही राजस्व की बड़ी हानि

एनएच-2 के समीप होने के कारण कई बड़े अधिकारी से लेकर छोटे अधिकारी इन रास्तों से गुजरते हैं. इसके बावजूद भी इन अवैध कारोबारियों पर किसी प्रकार का अंकुश नहीं लगाया जा रहा है.

रोहतास में चल रहा अवैध बालू डंपिंग का बड़ा खेल, सरकार को हो रही राजस्व की बड़ी हानि
अवैध बालू कारोबारी जैसे बरसात शुरू होता हैं बालू को अपने मनमाने कीमत में बेचने लगेंगे.

सासाराम: बिहार के सासाराम के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के लेरूआ, कंचनपुर अमरा तलाब, धोडाढ धनकड़ा  के पहाड़ के तराई में अवैध बालू डंपिंग यार्ड की बड़ा खेल चल रहा है. सैकड़ों ट्रक बालू यहां पर डंपिंग की गई है. मानसून (Monsoon) आते ही अवैध बालू कारोबारी इन दिनों रात दिन एक-एककर सोन तटीय इलाके से अवैध निकासी कर बालू को इकट्ठा करने में लगे हैं. अवैध बालू कारोबारी जैसे बरसात शुरू होता हैं बालू को अपने मनमाने कीमत में बेचने लगेंगे.

जानकारी के अनुसार, शाम ढलते ही अवैध बालू कारोबारी तिलौथू प्रखंड के रमड़िहरा सरैया शिवगंज सहित सोन तटीय इलाके से बालू का निकासी करने में लगे हैं. प्रतिदिन 200 टैक्टर 100 ट्रक हाईवा के माध्यम से इन इलाकों में माल डंपिंग किया जाता है.

घाटों से पोकलेन जेसीबी मशीन के माध्यम से ट्रक ट्रैक्टर और हाईवा पर लोडिंग की जाती है. सबसे बड़ी बात यह है कि, इतने बड़े पैमाने पर खुले मैदान में बालू डंप किए गए हैं. वहीं, एनएच-2 के समीप होने के कारण कई बड़े अधिकारी से लेकर छोटे अधिकारी इन रास्तों से गुजरते हैं.

इसके बावजूद भी इन अवैध कारोबारियों पर किसी प्रकार का अंकुश नहीं लगाया जा रहा है. बता दें कि, बिहार सरकार को भी बालू की अवैध निकासी होने के कारण प्रतिदिन लाखों रुपए की राजस्व की हानि हो रही है. अधिकारियों के द्वारा अवैध कारोबारियों के खिलाफ कभी-कभी कार्रवाई भी की जाती है. लेकिन करवाई करने के कुछ ही घंटों के बाद अवैध कारोबारी फिर से अपने कार्यों में लग जाते हैं.

इसी महीने रोहतास एसपी सत्यवीर सिंह के द्वारा डेहरी थाना क्षेत्र के गेमन पुल पर तैनात नौ पुलिसकर्मी को बालू ट्रक से अवैध वसूली मामले में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था. 2 दिन पूर्व भोजपुर पुलिस के द्वारा रोहतास और भोजपुर के बॉर्डर पर अवैध वसूली ट्रकों से की जा रही थी. इस मामले में भी बड़ी कार्रवाई की गई जिसमें एक दरोगा समेत पांच पुलिसकर्मी को गिरफ्तार किया गया. उसके बाद भोजपुर पुलिस को सौंप दी गई.