फिलहाल 142 MLA ऐसे जिनपर दर्ज आपराधिक मामले, 98 पर हैं गंभीर आरोप, चुनाव आयोग की नजर

2010 विधानसभा चुनाव के बाद जो विधायक जीतकर विधानसभा पहुंचे उनमें 33 फीसदी विधायकों पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज थे, जबकि 2015 चुनाव के बाद ये प्रतिशत बढकर 40 फीसदी हो गया.

फिलहाल 142 MLA ऐसे जिनपर दर्ज आपराधिक मामले, 98 पर हैं गंभीर आरोप, चुनाव आयोग की नजर
2015 में 142 MLA ऐसे जिनपर दर्ज आपराधिक मामले, 98 पर हैं गंभीर आरोप, चुनाव आयोग की नजर. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पटना: बिहार चुनाव की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं. इसके लिए चुनाव आयोग ने भी प्रशिक्षण कार्यक्रम से लेकर चुनाव में कुछ नियमों के बदलाव में लगी हुई है. चुनाव आयोग से मिली जानकारी के मुताबिक 2015 चुनाव के बाद 142 विधायक ऐसे चुनाव जीत कर आए जिनपर आपराधिक मामले दर्ज थे, उनमें से 98 विधायकों पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं.

वही 2010 विधानसभा चुनाव के बाद जो प्रत्याशी जीतकर विधानसभा पहुंचे उनमें 57 फीसदी विधायकों पर आपराधिक मामले दर्ज थे. जबकि 2015 चुनाव के बाद ये प्रतिशत बढकर 58 हो गया.

2010 विधानसभा चुनाव के बाद जो विधायक जीतकर विधानसभा पहुंचे उनमें 33 फीसदी विधायकों पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज थे, जबकि 2015 चुनाव के बाद ये प्रतिशत बढकर 40 फीसदी हो गया.

चुनाव आयोग ने विधायकों की ओर से दिए गए गंभीर आपराधिक मामलों की दलवार स्थिति...

- आरजेडी के 80 में से 34 विधायकों ने खुद पर गंभीर आपराधिक मामलों की जानकारी चुनाव आयोग को दी है. वही जेडीयू के 71 में से 28 एमएलए, बीजेपी के 53 में से 19 विधायक, कांग्रेस के 27 में से 11, सीपीआईएमएल के 3 में से 2, 
आरएलएसपी के 2 में से 1, एलजेपी के 2 में से 1 विधायक ने अपने ऊपर गंभीर आपराधिक मामलों की जानकारी दी है. इनमें हत्या से संबंधित मामले, महिलाओं पर अत्याचार, सांप्रदायिक अशांति फैलाने, अपहरण के मामले शामिल हैं.

वहीं समान्य आपराधिक मामलों की जानकारी देने वाले विधायकों की दलवार सूची...

आरजेडी के 80 में 46 विधायक, जेडीयू के 71 में 37, बीजेपी के 53 में 34, कांग्रेस के 27 में 16, सीपीआईएमएल के 3 में 3,आरएलएसपी के 2 में से 1, एलजेपी के 2 में से 2 विधायक पर आपराधिक मामला दर्ज है.