close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजधानी रांची में बढ़ रही है बिजली की समस्या, उपभोक्ताओं हैं परेशान

राजधानी रांची में बिजली की समस्या बढ़ती जा रही है. गर्मी का मौसम बीत गया लेकिन बिजली की स्थिती गंभीर ही बनी हुई है. 

राजधानी रांची में बढ़ रही है बिजली की समस्या, उपभोक्ताओं हैं परेशान
राजधानी रांची में बिजली की व्यवस्था ठीक नहीं की जा रही है. (फाइल फोटो)

रांचीः राजधानी रांची में बिजली की समस्या बढ़ती जा रही है. गर्मी का मौसम बीत गया लेकिन बिजली की स्थिती गंभीर ही बनी हुई है. अब बारिश हो रही जिससे समस्या और भी बढ़ गया है. राजधानी में मेंटेनेंस के नाम पर घंटों बिजली गुल रहती है. वहीं सीएम रघुवर दास जीरो पावर कट का सपना देख रहे हैं तो ऐसे में राजधानी रांची में यह हाल है तो अन्य जिलों का क्या होगा. कैसे सीएम का सपना पूरा होगा.

मुख्यमंत्री ने जीरो पावर कट का सपना देखा और इस सपने को हकीकत में बदलने के लिए अधिकारियों को निर्देश भी दिए गए. लेकिन आज भी शहर की बिजली आंख मिचौली खेल रही है. जिसका खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है. लोगों के मुताबिक आज के इस तकनीक युग में बिजली की अहम भूमिका होती है, लेकिन शहर की बिजली व्यवस्था उन्हें रुला रही. जिसकी वजह से लोग नाराज़ दिख रहे हैं.

मेंटेनेंस के नाम पर काटी जा रही बिजली आपूर्ति से हर आम और हर खास त्रस्त हैं, और अगर मामला जनहित के मुद्दों को लेकर हो तो ऐसे में विपक्ष का सरकार पर निशाना लाजमी है. बिजली आपूर्ति पर जेएमएम प्रवक्ता मनोज पांडे ने सरकार और मुख्यमंत्री रघुवर दास को ही आड़े हाथों लेते हुए कहा कि मुख्यमंत्री का लोगों के बीच जाने का कोई नैतिक आधार ही नहीं बचा, क्योंकि उन्होंने जीरो पावर कट का वादा किया था. जो अब तक कही से भी पूरा होता नहीं दिख रहा है.

वहीं, बिजली की व्यवस्था पर सरकार का बचाव करते हुए बीजेपी प्रवक्ता का कहना है कि व्यवस्थाएं बदलने के लिए बिजली कट रही है. और जब एक बार बिजली में सुधार हो जाएगी तो फिर लोगों को क्वालिटी बिजली मिलेगी. जेएमएम के बयान पर जवाब देते हुए दीन दयाल वर्णवाल ने कहा कि नए ग्रीड बन रहे हैं. कवर्ड वायर लग रहे हैं, जर्जर तार और ट्रांसफार्मर बदले जा रहे हैं. इसलिए वक़्त लग रहा है. बस चंद महीनों में स्थिति में बदलाव होगा.