close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

झारखंड: महागठबंधन में पार्टियों की महत्वाकांक्षा ने फंसाया सीट बंटवारे में 'महापेच'

जेएमएम के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि दो दिन पूर्व पार्टी के विधायकों की बैठक में विधायकों ने जो भावना स्पष्ट की है, उसके मुताबिक पार्टी को कम से कम इतनी सीटों पर चुनाव लड़ना चाहिए

झारखंड: महागठबंधन में पार्टियों की महत्वाकांक्षा ने फंसाया सीट बंटवारे में 'महापेच'
सभी दलों की महत्वाकांक्षा ने महागठबंधन में सीटों के पेंच को उलझा दिया है.(फाइल फोटो)

रांची: झारखंड में इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर सत्तारूढ़ बीजेपी को सत्ता से बेदखल करने के लिए सभी विपक्षी दलों ने तैयारी शुरू कर दी है, सभी दलों की महत्वाकांक्षा ने महागठबंधन में सीटों के पेंच को उलझा दिया है. झारखंड में विधानसभा की 81 सीटों में से 41 सीटों पर दावा ठोककर जेएमएम ने अपने सहयोगी दलों को यह संदेश दे दिया है कि आने वाले विधानसभा चुनाव में महागठबंधन में वह बड़े भाई की भूमिका में होगा. 

जेएमएम के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि दो दिन पूर्व पार्टी के विधायकों की बैठक में विधायकों ने जो भावना स्पष्ट की है, उसके मुताबिक पार्टी को कम से कम इतनी सीटों पर चुनाव लड़ना चाहिए, जिससे वह अकेले राज्य में सरकार बना सके. यही कारण है कि पार्टी ने 41 सीटों पर चुनाव लड़ने का दावा पेश किया है. 

वैसे, जेएमएम का यह दावा उनके सहयोगी दलों को पसंद नहीं आया है. आरजेडी ने जेएमएम के दावों को नकारते हुए उसे 'परित्याग' करने की नसीहत तक दे दी. आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष अभय सिंह ने मीडिया से बातचीत में कहा, 'जेएमएम को त्याग करना चाहिए, आखिर चुनाव हेमंत सोरेन जी के ही नेतृत्व में लड़ना है और मुख्यमंत्री भी उन्हीं को बनना है तो 'त्याग' भी उन्हीं को करना होगा.'

उन्होंने कहा कि आरजेडी झारखंड मं 12 से 15 सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है.  उल्लेखनीय है कि इस वर्ष हुए लोकसभा चुनाव के पूर्व ही झारखंड महागठबंधन में विधानसभा चुनाव हेमंत सोरेन के नेतृत्व में लड़ने की सहमति बन गई थी. 

इस बीच, महागठबंधन में प्रमुख घटक दल कांग्रेस ने भी इशारों ही इशारों में सभी 81 सीटों पर चुनाव की तैयारी करने की बात कर जेएमएम के दावे को नकार दिया है. कांग्रेस के प्रवक्ता राजेश ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस सभी 81 सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है. उन्होंने दावा करते हुए कहा कि कांग्रेस राज्य की 35 से 40 सीटों पर अपने जनाधार की बदौलत अच्छी स्थिति में है.

ठाकुर ने जेएमएम पर कटाक्ष करते हुए यह भी कहा कि कांग्रेस की सीट कोई दूसरे दल के लोग तय नहीं करते, बल्कि पार्टी के अध्यक्ष, प्रभारी या कोई वरिष्ठ नेता ही इसे तय करते हैं. 

विधानसभा चुनाव की घोषणा के पूर्व ही जेएमएम द्वारा 41 सीटों की दावेदारी और आरजेडी व कांग्रेस की नसीहत के बाद इतना तय है कि झारखंड विधानसभा चुनाव में महगठबंधन में सीट बंटवारा आसान नहीं होगा. 

इधर, पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी की पार्टी जेवीएम भी महागठबंधन में अब तक खुलकर सीट का दावा भले ही नहीं कर रहा हो, लेकिन सूत्रों का कहना है कि जेवीएम भी चार से पांच सीट से कम पर समझौता करने को तैयार नहीं होगा. 

बहरहाल, सीट बंटवारे को लेकर दलों में महत्वकांक्षा के बीच सीटों के बंटवारे का पेच फंस गया है और इस पेच को सुलझाना ही महागठबंधन के वरिष्ठ नेताओं के लिए एक चुनौती होगी.