बिहार: कैमूर में इंटरनेट सेवा बहाल, बार एसोसिएशन ने किया आरोपियों की पैरवी ना करने का फैसला

संघ के सचिव दिलीप सिंह ने कहा है कि एक बैठक करके हम लोगों ने इस घटना की निंदा की है. जिस तरीके से सारे घटनाक्रम को वायरल किया गया उसके बाद  बार एसोसिएशन संघ का मानना है कि ऐसे केस में बहुत जल्दी जांच कर स्पीडी ट्रायल के तहत इस मामले का डिस्पोजल किया जाना चाहिए.

बिहार: कैमूर में इंटरनेट सेवा बहाल, बार एसोसिएशन ने किया आरोपियों की पैरवी ना करने का फैसला
अधिवक्ताओं से आग्रह किया गया है कि कोई भी इस घटना में संलिप्त अपरोपियो की पैरवी ना करें.

कैमूर: बिहार के कैमूर बार एसोसिएशन संघ ने मोहनिया में 23 नवंबर को 10वीं की छात्रा से गैंगरेप कर वीडियो वायरल करने के मामले में हुई नाबालिग लड़की के साथ गैंग गैंगरेप की घोर निंदा करते हुए जिले के सभी और अधिवक्ताओं से आग्रह किया है कि कोई भी इस घटना में संलिप्त अपरोपियो की पैरवी ना करें. साथ ही स्पीडी ट्रायल कराकर के आरोपियों को सजा दिलाने की मांग की है.

वहीं, संघ के सचिव दिलीप सिंह ने कहा है कि एक बैठक करके हम लोगों ने इस घटना की निंदा की है. जिस तरीके से सारे घटनाक्रम को वायरल किया गया उसके बाद  बार एसोसिएशन संघ का मानना है कि ऐसे केस में बहुत जल्दी जांच कर स्पीडी ट्रायल के तहत इस मामले का डिस्पोजल किया जाना चाहिए.

साथ ही दिलीप सिंह ने कहा, 'हमारे जिला सभी अधिवक्ताओं से अपील किया है इस केस में संलिप्त आरोपियों की पैरवी न करें तो ऐसे में तो यही अच्छा होगा.'

वहीं, कैमूर में इंटरनेट सेवा कल बाधित कर दी गई थी लेकिन मध्यरात्रि से इंटरनेट सेवा शुरू कर दी गई है. आपको बता दें कि नाबालिग गैंगरेप मामले में जिला प्रशासन ने 25 और 26 नवंबर को पूरे कैमूर में इंटरनेट सेवा बंद कराई थी.