जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पहले चरण में जमकर हुआ मतदान, मतदाताओं में दिखा खासा उत्साह

जम्मू-कश्मीर अलगाववादियों की ओर से किए गए चुनाव के बहिष्कार के आह्वान को मंगलवार को लोगों ने खारिज कर दिया। जिसका नतीजा यह रहा कि विधानसभा चुनाव के पहले चरण में रिकॉर्ड 71.28 फीसदी मतदान दर्ज किया गया और राज्य की 15 विधानसभा क्षेत्रों में बिना किसी अप्रिय घटना के मतदान संपन्न हुआ।

जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पहले चरण में जमकर हुआ मतदान, मतदाताओं में दिखा खासा उत्साह

ज़ी मीडिया ब्‍यूरो

श्रीनगर/रांची : जम्मू-कश्मीर अलगाववादियों की ओर से किए गए चुनाव के बहिष्कार के आह्वान को मंगलवार को लोगों ने खारिज कर दिया। जिसका नतीजा यह रहा कि विधानसभा चुनाव के पहले चरण में रिकॉर्ड 71.28 फीसदी मतदान दर्ज किया गया और राज्य की 15 विधानसभा क्षेत्रों में बिना किसी अप्रिय घटना के मतदान संपन्न हुआ।

वहीं, झारखंड में भी 13 नक्सल प्रभावित विधानसभा क्षेत्रों में करीब 62 फीसदी मतदान हुआ। यहां पांच चरणों मतदान होना है और आज पहले चरण का मतदान संपन्न हुआ।

जम्मू-कश्मीर में साल 2008 के विधानसभा चुनाव के दौरान इन 15 सीटों पर 61.23 फीसदी मतदान दर्ज किया गया था। इन सीटों में छह जम्मू, पांच कश्मीर घाटी और चार लद्दाख में है। दिल्ली में उप चुनाव आयुक्त विनोद जुत्शी ने संवाददाताओं से कहा कि मतदान पूरी तरह शांतिपूर्ण रहा और कोई अप्रिय घटना नहीं घटी। शत प्रतिशत त्रुटिहीन मतदान हुआ और चुनाव प्रक्रिया को नुकसान पहुंचाने वाली एक भी घटना नहीं घटी। कश्मीर में अलगाववादी नेताओं को बड़ा झटका देते हुए हुए मतदान केंद्रों पर हजारों मतदाता कतार में लगे थे। आज करीब 10.52 लाख मतदाताओं को वोट डालने का अधिकार था। हुर्रियत कांफ्रेंस के सभी धड़ों और जेकेएलएफ जैसे अलगाववादी संगठनों ने चुनावों का बहिष्कार करने का आह्वान किया था।

राज्य में 15 निर्वाचन क्षेत्रों के लिए हुए मतदान में सात मंत्री समेत कुल 123 उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं। कश्मीर घाटी के पांच विधानसभा क्षेत्रों में से गांदरबल जिले की दो सीटों पर रिकॉर्ड 68 प्रतिशत मतदान हुआ। 2008 के विधानसभा चुनाव की तुलना में इस बार मतदान प्रतिशत में 13 फीसदी का इजाफा हुआ है। बांदीपुरा जिले की शेष तीन सीटों पर रिकॉर्ड 70.30 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया और इसमें पिछले चुनाव के मुकाबले 11 प्रतिशत इजाफा हुआ है। कश्मीर घाटी में सोनावरी विधानसभा क्षेत्र में 80.10 फीसदी मतदान हुआ।

झारखंड की 13 विधानसभा सीटों पर 61.92 फीसदी मतदान दर्ज किया गया और माओवाद प्रभावित इस राज्य में पहले चरण का मतदान शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो गया। चुनाव आयोग के एक अधिकारी ने कहा कि मत प्रतिशत में बाद में बढ़ोतरी हो सकती है। झारखंड में चतरा (सु), गुमला (सु), बिशुनपुर (सु), लोहरदगा (सु), मनिका (सु), लातेहार (सु), पांकी, डाल्टनगंज, विश्रामपुर, छतरपुर (अजजा), हुसैनाबाद, गढ़वा और भवनाथपुर विधानसभा क्षेत्रों में आज मतदान हुआ।

राज्य में पूरी तरह शांतिपूर्ण ढंग से मतदान का कार्य संपन्न हुआ। सिर्फ छतरपुर में दो बूथों पर राजद और भाजपा कार्यकर्ताओं में टकराव के बाद वहां फिर से मतदान कराने का निर्णय किया गया है। इससे पहले आज सुबह मतदान प्रारंभ होने से पहले ही सुरक्षा बलों ने डाल्टनगंज में हुसैनाबाद विधानसभा क्षेत्र के हरिहरगंज में सड़क में नक्सलियों द्वारा दबायी गई आइईडी बरामद कर एक बड़ी दुर्घटना को टालने में सफलता प्राप्त की थी। दूसरे चरण के तहत 20 सीटों के लिए मतदान दो दिसम्बर को होगा। तीसरे चरण के तहत 17 सीटों के लिए मतदान नौ दिसम्बर, चौथे चरण के तहत 15 सीटों के लिए मतदान 14 दिसम्बर और पांचवें और अंतिम चरण के तहत 16 सीटों के लिए मतदान 20 दिसम्बर को होगा। मतगणना 23 दिसम्बर को होगी। बिहार से काटकर 15 नवम्बर 2000 को गठन के बाद झारखंड में यह तीसरा विधानसभा चुनाव है।

उप चुनाव आयुक्त और जम्मू कश्मीर के प्रभारी ने कहा कि जम्मू कश्मीर में 121 साल की नूर बी ने भी वोट डाला। रामबन विधानसभा के एक मतदान केंद्र पर वह वोट डालने पहुंचीं। सिन्हा के अनुसार झारखंड में मतदान थोड़ा उत्साहजनक रहा। उन्होंने कहा कि 2009 में पिछले विधानसभा चुनावों में इन सीटों पर 58 प्रतिशत मतदान हुआ था। इस बार मतदान प्रतिशत इस साल हुए लोकसभा चुनावों की तुलना में 34 प्रतिशत अधिक था। सिन्हा के मुताबिक झारखंड में पेड न्यूज के एक दर्जन मामले भी दर्ज किये गये वहीं जुत्शी के अनुसार जम्मू कश्मीर में पेड न्यूज के बहुत ज्यादा मामले सामने नहीं आए।

दोनों राज्यों में अच्छे मतदान प्रतिशत पर केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि लोगों ने दिखा दिया है कि उन्होंने आतंकवाद और हिंसा की विचारधारा को खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर और झारखंड की जनता ने उग्रवादियों तथा नक्सलियों की धमकियों को धता बताते हुए आतंकवाद और हिंसा की विचारधारा को खारिज कर दिया है। लोग बदलाव चाहते हैं। सिंह ने कहा कि जम्मू कश्मीर और झारखंड में आज पहले चरण के मतदान में बड़ी संख्या में मतदाताओं के उमड़ने की खबर सुनकर खुशी हुई। यह हमारे लोकतंत्र के लिए सकारात्मक संकेत है। (एजेंसी इनपुट के साथ)