बिहार: JDU-BJP ने तेजस्वी पर बस-ट्रेन को लेकर साधा निशाना, तो RJD बोली...

निखिल मंडल ने कहा कि, तेजस्वी यादव का ट्विटर पर ट्रेन और फेसबुक पर बस चल रही है, यही हकीकत है. इन्हें देना कुछ नहीं है और मीडिया में बने रहना है.

बिहार: JDU-BJP ने तेजस्वी पर बस-ट्रेन को लेकर साधा निशाना, तो RJD बोली...
सियासत की इस खेल में राजनीतिक दल अपने विरोधियों को पटखनी देने में पीछे नहीं है

पटना: बिहार में राजनीतिक बयानबाजी का सिलसिला अपने परवाना पर चढ़ चुका है. सियासत की इस खेल में राजनीतिक दल अपने विरोधियों को पटखनी देने में पीछे नहीं है. इस बीच, उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) सरकार ने प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) का प्रवासी मजदूरों (Migrants Labour) के लिए 1000 बसें चलाने का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया है तो, इसको लेकर बिहार में राजनीति शुरू हो गई है.

जेडीयू (JDU) प्रवक्ता निखिल मंडल ने बिहार विधानसभा (Bihar Vidhansabha) में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) पर निशाना साधा है. निखिल मंडल ने कहा कि, तेजस्वी यादव का ट्विटर पर ट्रेन और फेसबुक पर बस चल रही है, यही हकीकत है. इन्हें देना कुछ नहीं है और मीडिया में बने रहना है.

जेडीयू प्रवक्ता ने कहा कि, मीडिया में बार-बार इस बात को कहना कि, ट्रेन और बसें मैं दूंगा, यह देने वाले लोग नहीं हैं, बल्कि बस लेने वाले लोग हैं. इन्होंने मॉल और प्रॉपर्टी के साथ कई चीजों को लिया है. उन्होंने कहा कि, यह लोग मेवा खाने वाले हैं और इन्होंने कभी कुछ दिया नहीं है.
 
वहीं, बीजेपी नेता नवल यादव ने तेजस्वी के ट्विटर पर ट्रेन और बस चलाने को लेकर निशाना साधते हुए कहा, ' आरजेडी कोई गरीब के लिए काम करने वाली पार्टी नहीं है. यह लोग बस क्या अपने शरीर का मैल भी नहीं देंगे. मीडिया में बने रहने के लिए तेजस्वी कुछ न कुछ बयान देते रहते हैं. आरजेडी पार्टी नहीं परिवारों की जमात है और यह एक पैसा भी जनता और गरीबों के लिए खर्च नहीं करने वाले हैं.

इधर, प्रियंका गांधी के बस चलाने के प्रस्ताव को यूपी के सरकार के द्वारा स्वीकार किए जाने पर आरजेडी के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने कहा कि, इस पर बयानबाजी करने का कोई अर्थ नहीं है. सत्ता पक्ष के पास कोई काम नहीं है. बिहार में जो प्रवासी मजदूरों के लिए क्वारेंटाइन सेंटर बनाए गए हैं, वहां के हालात काफी खराब हैं. हंगामा जगह-जगह सेंटरों पर हो रहा है और वह सरकार से संभल नहीं रहा है.

शिवानंद तिवारी ने कहा कि, सत्ता पक्ष विपक्ष पर आरोप राजनीति के तहत लगा रही है. प्रियंका गांधी ने 3 दिन पहले यूपी सरकार को प्रस्ताव दिया था, लेकिन तेजस्वी यादव लॉकडाउन (Lockdown) वन में ही सरकार को 2000 बस चलाने का जो प्रस्ताव दे दिए था, उस समय कोई गाड़ी नहीं चल रही थी.

बता दें कि, तेजस्वी यादव ने कहा था कि, अगर बिहार सरकार राज्य के प्रवासी मजदूरों को वापस लाने में सक्षम नहीं है तो बहताएं, आरजेडी अपने तरफ से 2000 बसों का इंतजाम करेगी और 50 ट्रेन का किराया भी वहन करेगी, लेकिन सरकार कामगारों की वापसी जल्दी सुनिश्चित करे.