close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पटना: महागठबंधन में बिखराव पर JDU ने साधा निशाना, कहा- 'ये है सीरीज ऑफ फ्यूज बल्ब'

बीजेपी नेता प्रेम कुमार ने कहा है कि महागठबंधन कोमा में जा चुका है.

पटना: महागठबंधन में बिखराव पर JDU ने साधा निशाना, कहा-  'ये है सीरीज ऑफ फ्यूज बल्ब'
महागठबंधन में बिखराव पर बीजेपी और जेडीयू ने निशाना साधा है

पटना: बिहार में महागठबंधन (Mahagathbandhan) की ओर से एकजुटता की कवायद महाज दिखावा ही साबित होती नजर आ रही है. महागठबंधन के किसी भी घटक दल ने अब तक अपने सहयोगी पार्टी के उम्मीदवार के पक्ष में चुनाव प्रचार के लिए समय नहीं दिया है.

कांग्रेस (Congress) अध्यक्ष मदन मोहन झा (Madan Mohan Jha) मंगलवार से चुनाव प्रचार के लिए निकले. लेकिन कांग्रेस पार्टी की ओर से जो उनका चुनाव शेड्यूल जारी किया गया है, उसके अनुसार वो केवल कांग्रेस उम्मीदवार के पक्ष में ही चुनाव प्रचार करेंगे. 

मदन मोहन झा सिर्फ समस्तीपुर और किशनगंज में ही चुनाव प्रचार करेंगे. उन्होंने आरजेडी (RJD), हम (HAM) और वीआईपी (VIP) पार्टी के प्रत्याशियों के प्रचार के लिए समय नहीं दिया है.

इधर, आरजेडी की ओर से नेता प्रतिपक्ष का जो चुनावी शेड्यूल जारी किया गया है उसमें कहीं भी कांग्रेस उम्मीदवार के पक्ष में चुनाव प्रचार किए जाने का जिक्र नहीं है. 15 तारीख तक की जारी सूची में तेजस्वी यादव  (Tejashwi Yadav) सिर्फ आरजेडी उम्मीदवार के समर्थन में चुनाव प्रचार करते नजर आएं हैं. 

वहीं, महागठबंधन में हुए बिखराव पर सियासत भी तेज हो गई है. सत्तारूढ़ दल महागठबंधन में बिखरवा से काफी खुश हैं. बीजेपी (BJP) नेता प्रेम कुमार ने कहा है कि महागठबंधन कोमा में जा चुका है.

लोकसभा चुनाव में ही जनता ने इन्हें खारिज कर दिया है. अब नेता केवल दिखाने और सीट हथियाने का नाटक कर रहे हैं और जनता इनके झांसा में नहीं आएगी.

वहीं, जेडीयू (JDU) प्रवक्ता निखिल मंडल ने कहा है कि महागठबंधन का ये हश्र तो होना ही था. क्योंकि ये स्वार्थ का गठबंधन है. कहने के लिए मंच पर ये लोग बड़ी- बड़ी बातें करते हैं, हाथ में हाथ डाले खड़े रहते हैं, लेकिन हकीकत में ये सीरीज ऑफ फ्यूज बल्ब हैं.

उन्होंने कहा कि जनता से इनका कोई सरोकार नहीं है और जब जनता को जरूरत होती है, तो भी ये लोग बाहर रहते हैं. सभी अपने-अपने उम्मीदवार खड़े कर रहे हैं. साथ में प्रचार करने की बात तो दूर है.

इधर आरजेडी की ओर से मामले पर सफाई आई है. आरजेडी के विधायक राहुल तिवारी ने कहा है कि महागठबंधन अटूट है. जो भी प्रत्याशी हमारे नेता से चुनाव प्रचार के लिए समय मांगेगा, हमारे नेता उस उम्मीदवार को समय देंगे. महागठबंधन की एकजुटता पर सवाल उठाना सहीं नहीं है.