महाराष्ट्र के सियासी बवंडर के बीच JDU ने की NDA में कोआर्डिनेशन कमेटी बनाने की मांग

केसी त्यागी के बयान पर राष्ट्रीय जनता दल (RJD) प्रवक्ता भाई बीरेन्द्र ने कहा कि जेडीयू अभी मोलभाव करने में जुटी है. इसमें यह माहिर हैं. 

महाराष्ट्र के सियासी बवंडर के बीच JDU ने की NDA में कोआर्डिनेशन कमेटी बनाने की मांग
केसी त्यागी ने की कोआर्डिनेशन कमेटी बनाने की मांग. (फाइल फोटो)

पटना: महाराष्ट्र की राजनीति का बिहार में भी असर देखने को मिल रहा है. भारतीय जनता पार्टी (BJP) और शिवसेना (Shiv Sena) की 30 साल पुरानी दोस्ती टूट गई. शिवसेना के अलग होने के बाद अब नीतीश कुमार की नेतृत्व वाली जनता दल यूनाइटेड (JDU) सबसे बड़ी सहयोगी बन गई है. इस बीच जेडीयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने एक समन्वय समिति बनाने की मांग कर दी है.

केसी त्यागी ने कहा कि इससे घटक दलों के बीच आपसी टकराव कम होगा. उन्होंने कहा कि बीजेपी हर चुनाव अपने बलबूते लड़ना चाहती है, वह घटक दलों का साथ नहीं चाहती. यही कारण है कि झारखंड चुनाव में भी बीजेपी अकेले लड़ रही है. जेडीयू और लोजपा भी अलग-अलग चुनाव लड़ रही है. केसी त्यागी ने संयुक्त घोषणा पत्र बनाने की आवश्यकता पर भी जोर दिया है.        

केसी त्यागी के बयान पर राष्ट्रीय जनता दल (RJD) प्रवक्ता भाई बीरेन्द्र ने कहा कि जेडीयू अभी मोलभाव करने में जुटी है. इसमें यह माहिर हैं. हमारे साथ भी मोलभाव कर मुख्यमंत्री की कुर्सी ले ली थी. विधानसभा अध्यक्ष भी अपनी पार्टी की बनाई. उन्होंने कहा कि लालू यादव सरल व्यवहार के नेता हैं. 

वहीं, जेडीयू नेता श्याम रजक ने केसी त्यागी के बयान का समर्थन किया है. उन्होंने कहा कि केसी त्यागी ने सही राय दी है. एनडीए में फर्क पड़ेगा. गठबंधन में कुछ न कुछ हुआ है. चर्चा करने की जरूरत है. मजबूती के लिए यह जरुरत है.